गोंदिया: धापेवाड़ा सिंचाई प्रकल्प के दूसरे चरण के कार्य हेतु 100 करोड़ की निधि होंगी उपलब्ध- जलसंपदा मंत्री जयंत पाटील

393 Views

रजेगांव-काटी सिंचाई परियोजना बैराज की ऊंचाई बढ़ाने व किसानों को लाभ इसका लाभ देने पर हुई महत्वपूर्ण चर्चा

प्रतिनिधि।
गोंदिया। युद्ध स्तर पर चालू तिरोडा तालुका में महत्वपूर्ण धापेवाड़ा सिंचाई परियोजना के दूसरे चरण के पूरा होने के लिए 100 करोड़ रुपये का कोष उपलब्ध कराया जाएगा। साथ ही किसानों को इस सिंचाई परियोजना का लाभ कैसे मिले इसके लिए आवश्यक दिशा निर्देश अधिकारियों को राज्य के जल संसाधन मंत्री जयंत पाटिल ने दिए। मंत्री श्री पाटील रविवार को गोंदिया में आयोजित बैठक में बोल रहे थे।
   गौरतलब है कि राज्य के जल संसाधन मंत्री जयंत पाटिल गोंदिया जिले के दो दिवसीय दौरे पर हैं। रविवार को उन्होंने सांसद प्रफुल पटेल की मुख्य उपस्थिति में गोंदिया जिले में सिंचाई परियोजनाओं की समीक्षा की।
    बैठक में सांसद प्रफुल्ल पटेल, विधायक मनोहर चंद्रिकापुरे, पूर्व विधायक राजेंद्र जैन, पूर्व सांसद खुशाल बोपचे, पूर्व जेडपी अध्यक्ष विजय शिवनकर और सिंचाई विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
   इस बैठक में सांसद प्रफुल्ल पटेल ने करोड़ों रुपये की लागत से तैयार गोंदिया तालुका में रजेगांव-काटी सिंचाई योजना की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि, इस योजना के गलत निर्माण के कारण, सिंचाई का उपयोग नहीं हो रहा है जिससे किसान सिंचाई से वंचित हैं। उन्होंने किसानों को इस सिंचाई योजना का लाभ देने हेतु इसके दोषों को खत्म करने के लिए उपाय करने या किसानों को पानी उपलब्ध कराने के लिए परियोजना बैराज की ऊंचाई 2 मीटर बढ़ाने के लिए कहा।
   सांसद श्री पटेल के इस मुद्दे पर ध्यान देते हुए, जल संसाधन मंत्री जयंत पाटिल ने सिंचाई विभाग के अधिकारियों को योजना का सावधानीपूर्वक अध्ययन करने और त्रुटि को सुधारने के निर्देश दिए।
   श्री प्रफुल्ल पटेल ने धापेवाड़ा सिंचाई परियोजना का पानी कलपाथरी परियोजना में छोड़कर गोरेगांव तालुका के किसानों को लाभान्वित करने के लिए उपाय करने को कहा। इस पर भी मंत्री जयंत पाटिल ने योजना तैयार करने और प्रस्तुत करने के अधिकारियों को निर्देश दिए। साथ ही अन्य गोंदिया जिले में लंबित रुकी हुई सिंचाई परियोजनाओं को गति देने के लिए भी कहा। सालेकसा तालुका में बेवारटोला सींचन प्रकल्प के कार्यो में हुई त्रुटियों को दूर करके युद्धस्तर पर सिंचाई परियोजना के काम को पूरा करने के निर्देश दिए।

Related posts