गोंदिया: जश्ने-ईद मिलादुन्नबी में मोहल्लों में गूंजे मरहबा या मुस्तफ़ा के नारे

349 Views

 

शहर को, मोहल्लों को, मस्जिदों को सजाकर उत्साह से मनाया गया पैग़म्बरे इस्लाम का जन्मदिन…
 
प्रतिनिधि।
गोंदिया।  इस्लाम को नेक राह और अमन-शांति के संदेश के साथ खुदा से महोब्बत करने का रास्ता दिखाने वाले और उसे पूरी दुनिया में आगे बढ़ाने वाले अव्वल व आखरी नबी पैगम्बर हजरत मोहम्मद (स.अ.) के विलादत (जन्मदिवस) के मौके पर गोंदिया शहर में जश्ने ईद मिलादुन्नबी सादगीपूर्ण तरिके से हर्षोल्लास के साथ मनाई गई
 
कोविड में जारी शासन की गाइडलाइंस का पालन कर इस साल भी शहर में जुलूसे मोहम्मदी नही निकाला गया। लेकिन इस दिवस को हर्सोल्लास से मनाने अकितदमन्दों ने अपने-अपने क्षेत्र में छोटे प्रोग्राम आयोजित कर जश्ने ईद मिलादुन्नबी को मनाकर अपने नबी को सलातो सलामो पेश की।
मुस्लिम जमात गोंदिया की सरपरस्ती में ईदगाह मैदान में परचम कुशाई का प्रोग्राम किया गया। परचम कुशाई जामा मस्जिद के मुफ़्ती इमाम अताउर्रहमान साहब, गौसिया रिजविया मस्जिद के इमाम हाजी कासिम रजा साहब, रेलटोली मस्जिद के इमाम हाजी सत्तार साहब कें हाथो तमाम उलमा-ए कराम व शहर के मुस्लिम समुदाय के लोगो की मौजूदगी में परचम कुशाई, सलातो सलाम पेश कर की गई।
 इस दिन अपने पैग़म्बरे रसूल की आमद पर सभी मुस्लिम भाइयो ने पारम्परिक लिबास पहनकर एक दूसरे को ईद की बधाई दी। ईद के दिन मस्जिदों में नात-ए-ख्वानी, तकरीर कर मोहम्मद मुस्तफ़ा (स.अ.) के बारे में बयान फरमाया गया वही सही राह पर चलने की हिदायत दी गई। लोगों ने अपने घरों को रोशनाई से जगमगाया, खीर बांटी और लंगर का इंतेजाम कर जश्ने ईद मिलादुन्नबी मनाया।
 
गौरतलब है कि पैगंबर मोहम्मद साहब का जन्मदिन इस्लामिक साल के रबीउल अव्वल महीने की 12 तारीख को मनाया जाता है। मक्का शहर में 571 ईसवी को पैगम्बर साहब हजरत मुहम्मद सल्ल. का जन्म हुआ था। इसी दिन को  ईद मिलादुन्नबी के रूप में भारत सहित पूरी दुनिया में एकसाथ मनाया जाता है।

पुलिस प्रशासन ने गुलाब के फूल देकर दी मुस्लिम भाइयों को ईद की बधाई…

ईदगाह मैदान में परचम कुशाई के बाद पुलिस प्रशासन की ओर से रामनगर पुलिस थाने के इंचार्ज श्री कठाले, एलसीबी के इंचार्ज बबन आव्हाड एवं अन्य पुलिस कर्मियों ने सभी को गुलाब का फूल देकर व हाथ मिलाकर ईद की बधाई दी।

तीन दिन पहले से मोहल्ले सजे, मिलाद शरीफ नातखानी हुई

पैगम्बर इस्लाम के योमे पैदाइश के मौके पर शहर के मक्का मस्जिद चौक, नूरी चौक, बड़ी मस्जिद, छोटी मस्जिद, रामनगर गौसिया मस्जिद, रेलटोली मस्जिद, हुसैनी चौक, गौतम नगर मदीना मस्जिद, ईदगाह मैदान, सहित अनेको जगह में तोरन, लाइटिंग लगाई गई और अनेक जगहों पर मिलाद शरीफ, नातेपाक, तकरीर आदि कर नमाजे अदा की गई।

Related posts