गोंदिया: आंगनवाड़ी सेविकाओं को दिए गए मोबाईल फोन निकृष्ट दर्जे के, वापस किये 80 मोबाइल फोन

393 Views

मोबाईल के हेंग व गर्म होनी की परेशानी, खर्च भी सेविकाओं को उठाना पड़ रहा था..

प्रतिनिधि। 25 अगस्त
गोंदिया। आंगनवाड़ी सेविकाओं को डिजिटाइजेशन के तहत वर्ष 2019 में 2 जीबी की क्षमता वाला मोबाइल फोन दिया गया था। परंतु इस मोबाइल के बार-बार गर्म होने, हेंग होने तथा खराब होने पर दुरुस्ती के नाम पर आंगनवाडी सेविकाओं के वेतन से ही कटौती की जा रही थी। साथ ही केंद्र सरकार द्वारा सेविकाओं को दिए गए पोषण ट्रैकर एप के अंग्रेजी भाषा में होने और रैम की स्पीड कम होने से एप डाउनलोड करने में हो रही परेशानी के चलते आंगनवाडी सेविकाओं द्वारा राज्यभर में मोबाइल वापस किये जाने का क्रम जारी है। इसी क्रम के तहत आज आंगनवाड़ी सेविकाओं ने जिले के देवरी तहसील स्थित एकात्मिक बाल विकास कार्यकाल के समक्ष इकट्ठा होकर लगभग 80 मोबाइल फोन अधिकारीयो के सुपुर्द किये।
आंगनवाडी सेविकाओं का कहना है कि ये मोबाइल फोन कम क्षमता का मोबाइल फोन होकर निकृष्ट दर्जे का है। गौरतलब है कि आंगनवाड़ी सेविकाओं पर लाभार्थियों के नाम, हाजरी, वजन, पोषण आहार, स्तनपान, गर्भवती महिलाओं की जानकारी आदि का कार्य आंगनवाड़ी सेविकाओं के कांधे पर है। ऐसे में उन्हें इस मोबाइल के माध्यम से स्मार्ट रहने में भारी दिक्कतो का सामना करना पड़ रहा था।
केंद्र सरकार द्वारा सेविकाओं को दिए गया पोषण ट्रैकर एप इस मोबाइल में डाउनलोड करने में भारी परेशानी निर्माण हो रही थी वही एप मराठी या हिंदी में ना होकर अंग्रेजी में होने से और ज्यादा परेशानी बढ़ गई थी। सेविकाओं का कहना है कि मोबाईल हमें उच्च दर्जे का चाहिए, वही उसमें मराठी व हिंदी का विकल्प होना चाहिए।
इस मोबाईल वापस किये जाने के आंदोलन के दौरान कु. कुमुद एनपेडिवार देवरी (अध्यक्ष), सौ. सुनीता डोये- डोंगरगांव (सचिव), सौ. अल्का बिसेन- देवरी  (कोषाध्यक्ष),  सौ. आशा तोरणकर  (उपाध्यक्ष), सौ. दृंदा मैठाम डोंगरगांव ( सहसचिव), सौ. सरिता रहिले, सौ. सुनंदा रामटेके, सौ. रेखा नाईक, सौ. चंद्रकला औरासे, सौ. हस्तकला उइके, सौ. मिना राठौड़ आदि सहित अनेको आंगनवाडी सेविका उपस्थित होते।

Related posts