कोविड इलाज की बगैर अनुमति के चल रहा था, हॉस्पिटल.. एसडीओ गोंदिया ने औचक पहुँचकर करवाई FIR

894 Views

न्यू बालाजी हॉस्पिटल की कार्रवाई, डॉ. वाजपेयी बोले- कोविड प्रोपजल पेंडिंग है,  संकट के दौर में काम करने का इनाम मिला…

प्रतिनिधि। 15 मई
गोंदिया। कोविड संक्रमण के संकटकाल में संक्रमित मरीजों का इलाज कर रहे एक हॉस्पिटल पर एसडीओ गोंदिया द्वारा कार्रवाई कर उस हॉस्पिटल पर एफआईआर दर्ज कराई गई।
   जानकारी के अनुसार गोंदिया शहर के रामनगर थानांतर्गत रामनगर क्षेत्र में न्यू बालाजी हॉस्पिटल के नाम से चल रहे एक हॉस्पिटल की कोविड का इलाज किये जाने व कुछ मरीजों की मौत होने की शिकायत प्रशासन को प्राप्त हुई थी। इस शिकायत का संज्ञान लेने के लिहाज से आज एसडीओ गोंदिया वंदना सवरंगपते, तहसीलदार आदेश डफल, तहसील स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. वेदप्रकाश चौरागड़े ने 14 मई को न्यू बालाजी हॉस्पिटल का औचक दौरा किया। निरीक्षण में हॉस्पिटल के पास किसी भी तरह के जिलाधिकारी से प्राप्त कोविड हॉस्पिटल चलाने का अनुमति पत्र नही था। हॉस्पिटल में बिना अनुमति के ग़ैरतरीक़े से कोविड मरीजों का इलाज किया जा रहा था।
    ये गंभीर मामला होने पर एसडीओ गोंदिया ने त्वरित कार्रवाई के आदेश दिए जिसके बाद नायब तहसीलदार संजय बारसागड़े ने डॉ. नितेश वाजपेयी, न्यू बालाजी  हॉस्पिटल के खिलाफ रामनगर थाने में शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने भादवि की धारा 188, 269, 270, आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के कलम 51(ब), संक्रामक रोग अधिनियम 1897 की धारा 2,3,4 व महाराष्ट्र वैद्यक व्यवसायी अधिनियम, 2000 की धारा 33(2) अन्वये मामला दर्ज किया गया।
   इस मामलें पर जब न्यू बालाजी हॉस्पिटल के संचालक डॉ. नितेशकुमार बाजपेई से बात की गई तो, उनका कहना था कि हमने कोविड हॉस्पिटल हेतु प्रस्ताव केटीएस हॉस्पिटल को प्रेषित किया हुआ है जो लंबित है। हम कुछ अतिविशिष्ट लोगो के विनंती पर कोविड मरीजों का इलाज कर रहे थे। हमारे हॉस्पिटल का रिकवरी रेट भी गोंदिया में सबसे हाइएस्ट रहा। इस संकट में हमनें सिर्फ अपना फर्ज निभाकर मरीजों के उपचार को प्राथमिकता दी, जिसका इनाम हमें प्रशासकीय कार्रवाई से मिला।

Related posts