शिक्षा के स्तर को ऊंचा उठाकर हरसंभव सुविधा मुहैया कराएंगे – विधायक विनोद अग्रवाल

573 Views

कुड़वा और तांडा की जिला परिषद शालाओं में मनरेगा की शालेय भौतिक सुविधा योजना की शुरुआत की विधायक विनोद अग्रवाल ने

प्रतिनिधि।
गोंदिया। महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार हमी योजना अंतर्गत शालेय भौतिक सुविधा विकास कार्यक्रम का भूमिपूजन 10 फरवरी 2021 को विधायक विनोद अग्रवाल के हस्ते ग्राम कुड़वा व ग्राम तांडा की जिला परिषद शाला में संपन्न हुआ।

इस दौरान कार्यक्रम की अध्यक्षता जिलाधिकारी गोंदिया दीपककुमार मीणा ने की। प्रमुख उपस्थिति में जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी प्रदीपकुमार डांगे, उपमुख्य कार्यकारी अधिकारी, मनरेगा दिनेश हरिनखेड़े, शिक्षणाधिकारी हिवारे, गोंदिया पंचायत समिति बीडीओ जावेद ईनामदार, कुड़वा सरपंच शामदेवी युगलकिशोर ठाकरे, तांडा सरपंच मुनेश रहांगडाले, उपशिक्षणाधिकारी बी.बी. पारधी, गट शिक्षणाधिकारी, केंद्र प्रमुख, मुख्याध्यापक, शाला व्यवस्थापन अध्यक्ष आदि प्रमुखता से उपस्थित थे।

इस योजना के भूमिपूजन समारोह में विधायक विनोद अग्रवाल ने सभी प्रशासकीय अधिकारियों का अभिनंदन कर कहा की, खुशी की बात है आज हमारे कुशल व सक्रिय प्रशासकीय अधिकारियों की कुशलता के कारण महाराष्ट्र में सर्व प्रथम इस शालेय भौतिक योजना की शुरुआत जिला परिषद शालाओं में गोंदिया से हो रही है।

विधायक अग्रवाल ने कहा, जब मैं जिला परिषद में उपाध्यक्ष व शिक्षण विभाग का सभापति था, तब मैंने जिला परिषद शालाओ में शिक्षा स्तर को ऊंचा उठाने कई उपक्रमों पर कार्य कर ‘गाँव की शाला, हमारी शाला की शुरुवात की थी। इस पैर्टन को इतना सराहा गया कि इसकी शुरुवात पूरे महाराष्ट्र में की गई। हमनें जिला परिषद शालाओं में शिक्षा के स्तर को निजी स्कूलों की तर्ज पर सुधारित करने मातृभाषा मराठी, हिंदी के साथ ही सेमी इंग्लिश की सुरुवात की। जो आज प्रत्येक स्कूल में प्रारंभ हो गई है।

विधायक विनोद अग्रवाल ने कहा, गाँव में अगर कोई धन से संपन्न व्यक्ति होंगा तो, वो अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा देने प्राइवेट स्कूल में पढ़ायेगा, पर गाँव के गरीब लोगो का सहारा सिर्फ जिला परिषद की शालाये ही एकमात्र पर्याय है। आज शासकीय स्कूलों को सुधारने हेतु शासन स्तर पर अनेक योजनाएं चलाई जा रही है। मनरेगा अंतर्गत भौतिक सुविधाओं का शुभारंभ करना एक बेहतर पहल है। शिक्षा स्तर को ऊंचा उठाने हमें संकल्पित होकर आगे बढ़ना होंगा। उन्होंने कहा, हम समृद्ध तो गाँव समृद्ध। उन्होंने ये भी कहा, की वे ग्रामस्तर के बहुआयामी विकास हेतु कृतसंकल्प है। उन्होंने महिलाओं को, युवाओ को अपने गाँव में संकल्पित प्रकल्प तैयार करने प्रस्ताव बनाने का आग्रह किया, जिसे पूरा करने का वचन विधायक विनोद अग्रवाल ने उपस्थितो को दिया।

जिलाधिकारी दीपककुमार मीणा ने कहा, इस शालेय भौतिक योजना के तहत 13 प्रकार के कार्य किये जा सकते है। इसमें खास बात है कि इस योजना में खर्च मनरेगा द्वारा किया जाएगा, जिससे स्कूल और ग्राम पंचायत पर कोई अतिरिक्त भार नही पड़ेगा। जिला परिषद की शालाओ को सुशोभित करने व भौतिक विकास हेतु विशेष निधि का कोई प्रावधान नही था, पर मनरेगा से निधि प्राप्त होने पर बड़े पैमाने में विकास होंगा।

जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी प्रदीपकुमार डांगे ने कहा, हम शासकीय स्तर पर ग्राम के विकास हेतु कटिबद्धता से कार्य कर रहे है। शालेय भौतिक योजना के तहत 13 प्रकार के कार्य किये जा सकते है। शाला में किचन शेड, रेन वाटर हार्वेस्टिंग, सरंचना शोष गड्डा, मल्टी शौचालय, कंपाऊंड वाल, खेल मैदान, पौधारोपण, पेविंग ब्लॉक, कॉन्क्रीट नाली, बोरवेल पुनर्भरण, गेन्डुर खाद प्रकल्प, नाडेप कंपोस्ट व बांधकाम गुणवत्ता पूर्ण करने का कार्य है, जिससे रोजगार भी प्राप्त होंगा।

Related posts