गोंदिया: डीपीसी बैठक में पूर्व पालकमंत्री डॉ. फुके ने उठाये मुद्दे, कहा- 142 करोड़ की भूमिगत बिजली लाइन, हॉस्पिटल फायर इक्विपमेंट व सभी धान खरीदी केंद्रों को मिले मंजूरी..

501 Views

 

प्रतिनिधि।
गोंदिया। जिलाधिकारी कार्यालय गोंदिया के जिला नियोजन सभागृह में पालकमंत्री अनिल देशमुख की अध्यक्षता में आयोजित डीपीसी की बैठक में पूर्व पालकमंत्री व विधायक डॉ. परिणय फुके ने अनेकों मामलों में सदन का ध्यानकेन्द्रित कर महत्वपूर्ण मुद्दे उठाएं।

पूर्व मंत्री श्री फुके ने पालकमंत्री देशमुख का ध्यानकेन्द्रित करते हुए कहा कि, हाल ही में भंडारा जिला अस्पताल में 10 नवजात बच्चों की आग लगने से दर्दनाक मौत हो गई। इस घटना की पुनरावृत्ति गोंदिया में ना हो, इस हेतु जिला शासकीय अस्पतालों में सुरक्षा की दृष्टि से फायर आडिट व इक्विपमेंट की व्यवस्था का खास ख्याल रखा जाना चाहिए।
परिणय फुके ने आगे कहा, 142 करोड़ रुपयों की लागत की महत्वाकांक्षी भूमिगत बिजली लाइन का कार्य रुका पड़ा है, जिसे तत्काल प्रभाव से प्रारंभ किया जाना चाहिये।

उन्होंने कहा, पर्यावरण की दृष्टि से पिछली सरकार के दौरान सामाजिक वनीकरण विभाग के माध्यम से 13 करोड़ रुपये खर्च किये गए, जबकि वर्तमान सरकार पर्यावरण को लेकर कोई निधि नही खर्च कर रही। पूर्व मंत्री डॉ. फुके ने कहा, धान खरीदी केंद्र अत्यधिक जगह बन्द होने से किसानों का धान खराब हो रहा है, सरकार की इतनी विलंबता का खामियाजा किसानों को आर्थिक रूप से कमजोर कर रहा है। साथ ही राइस मिल मालिक धान मिलिंग के संदर्भ को लेकर हड़ताल कर रहे है, पर सरकार कोई पर्यायी कदम नही उठा रही।

उन्होंने ये भी कहा कि, अनेक कार्यो के लिए खर्च होने वाली निधि का उपयोग नही किया, प्रशासन इस विकास निधि में कमजोर पड़ता दिखाई दे रहा है, जिससे विकास कार्य रुके हुए है। परिणय फुके ने कहा, नवेगांव-नागझिरा वन्य जीवों के अभ्यारण्य को देखने पर्यटकों की संख्या बढ़ रही है, पर अभ्यारण्य के चोरखमारा गेट को जाने वाली सड़क खस्ताहाल होने से पर्यटकों में कमी हो रही है।

इन सभी मुद्दो पर पालकमंत्री अनिल देशमुख ने ध्यानकेन्द्रित कर उपस्थित अधिकारियों से जवाब मांगा, तथा अस्पतालों में सुरक्षा की दृष्टि से फ़ायर इक्विपमेंट की व्यवस्था करने व उसे सुधारित करने के निर्देश दिये। इसके आलावा 142 करोड़ की लागत के भूमिगत बिजली लाइन को मंजूरी देकर इसे त्वरित शुरू करने के आदेश दिए। पर्यटन के लिए चोरखमारा गेट को जाने वाले रास्ते के निर्माण को मंजूरी दी गई वही सभी सोसायटी के माध्यम से धान खरीदी प्रक्रिया शुरू करने के निर्देश दिए। धान मिलर्स के मुद्दों को हल करने हेतु अधिकारियों को कड़े निर्देश दिए।

डीपीडीसी की बैठक में राज्यसभा सांसद प्रफुल पटेल, सांसद अशोक नेते, विधायक विजय रहांगडाले, विधायक विनोद अग्रवाल, विधायक अभिजीत वंजारी, विधायक सहेसराम कोरोटे, विधायक मनोहर चन्द्रिकापुरे, जिलाधिकारी, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी, पोलिस अधिक्षक, एवम् संपूर्ण विभाग के अधिकारी व कर्मचारी गण उपस्थित थे।

Related posts