गोंदिया: पतंगबाजों के खेल में मरते आसमानी परिंदे, चाइनीज़ मांजा बना पक्षियों के मौत का कारण

567 Views

गोंदिया: पतंगबाजों के खेल में मरते आसमानी परिंदे, चाइनीज़ मांजा बना पक्षियों के मौत का कारण

प्रतिनिधि। 2 जनवरी
गोंदिया। इन दिनों शहर के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों में भी पतंगबाजी की जा रही है। हालांकि पतंगबाजी में चाइनीच मांजे का उपयोग तो नहीं हो रहा है, लेकिन नायलॉन जैसे मजबूत धागों का उपयोग किया जा रहा है। पतंगबाजी के दौरान आसमान में उड़ रहे परिंदे इन धागों में फंसकर गंभीर रूप से जखमी हो रहे हैं। जिससे अनेक पंछियों की मौत होने के मामले गोंदिया शहर में सामने आए हैं। इसी तरह की घटना शहर के अति व्यस्त परिसर में स्थित सुभाष उद्यान में सामने आई। जहां पर परिंदे पतंगबाजी के मांजे में फंस गए। लाख कोशिश करने के बाद भी उन्हें बचाया नहीं जा सका। इस तरह के कई परिंदों की मौत होने की खबरें बताई जा रही है। इस तरह की घटनाओं को देखते हुए पक्षी व पर्यावरण प्रेमियों द्वारा नाराजगी व्यक्त की जा रही है।

बता दें कि शहर से गुजरनेवाले फूलचुर नाके से लेकर बालाघाट टी पॉईंट तक मार्ग परिसर में इन दिनों पतंगबाजी चल रही है। जिससे आसमान में उड़ रहे परिंदे मांजे की चपेट में आकर जखमी हो रहे हैं। २ माह पूर्व गोंदिया उड़ान पुल से गुजर रही महिला अधिकारी के गले में मांजा फंस गया था। जिससे उनकी गर्दन को चोट पहुंची थी। इस घटना में वे बाल-बाल बच गई।

इसी प्रकार की घटना सुभाष उद्यान में ३१ दिसंबर को देखने को मिली। आसमान में उड़ रहे परिंदे मांजे में फंसकर पेड़ों पर लटक रहे थे। यह दृश्य जब आवागमन करनेवालों को दिखाई दिया तो बिना समय गंवाए योनेक्स बेडमिंटन क्लब के सक्रिय सदस्य अज्जू भारद्वाज, दीपक कदम, राजू लदरे आदि ने पेड़ पर लटके परिंदों को जीवित निकालने का प्रयास किया। किंतु लाख कोशिश करने के बाद भी परिंदों को बचाया नहीं जा सका। इस तरह के घटनाएं शहर में प्रतिदिन घटित होने की खबरे भी सामने आ रही है। इसलिए पतंगबाजों ने इसे गंभीरता से लेते हुए पतंग उड़ाते समय सावधानी बरतने के जरुरत है।

Related posts