गोंदिया: व्यवसायी से ऑनलाइन फ़्रॉड, व्यापारी के नाम से वाट्सअप चेटिंग कर ठगे 10 हजार रुपये.. 

1,278 Views
रिपोर्टर। 14 जुलाई
गोंदिया। बैंकिंग, लॉटरी, कर्ज लोन, केवाईसी, गिफ्ट आदि धोखाधड़ी के साथ ऑनलाइन धोखाधड़ी का जाल अब फेसबुक मैसेंजर से वाट्सएप मैसेंजर तक पहुँच चुका है। ठगबाज आम नागरिकों को लूटने अब हमारे परिचितों का सहारा लेकर, फ़्रॉड कर रहे है। हाल ही में गोंदिया शहर साइबर सेल में एक फ़्रॉड होने का मामला दर्ज हुआ है।
ये धोखाधड़ी का मामला 13 जुलाई की रात को पेशे से पोल्ट्री फार्म व्यवसायी ईरशाद अहमद कुरैशी निवासी सिविल लाइन, गोंदिया के साथ घटित हुआ।
कुरैशी को रात के दौरान एक अज्ञात नंबर से वाट्सएप्प मेसेज आया। उस अज्ञात नंबर में फिर्यादि के पोल्ट्री फार्म के बाजू में दूसरे व्यापारी गुड्डू वासनिक की डीपी फ़ोटो डली थी।
उस अज्ञात मैसेंजर ने फिर्यादी से 15 हजार रुपये की अर्जेंट मांग की। और सुबह 10 बजे के बाद वापस लौटाने की बात की। रुपये मांगने की वजह पूछने पर फोटो सेंड कर बताया कि उसके मामा के लड़के का एक्सीडेंट हो गया है और उसका हॉस्पिटल में ऑपरेशन जारी है। ब्लड और दवाइयों के लिए रुपये लग रहे है।
फिर्यादि अज्ञात व्यक्ति को पड़ोसी व्यापारी समझकर तथा ऑपरेशन के भेजे गए फोटो से भावुक होकर उन्होंने उस अज्ञात व्यक्ति को भेजे गए नंबर पर 10 हजार ऑनलाइन ट्रांसफर कर दिए।
फिर्यादि ने उस दौरान गुड्डू वासनिक को फोन करने का प्रयास किया पर फोन नही लगा। जब सुबह उनसे मुलाकात की तो, वे और आश्चर्य में पड़ गए। फिर्यादि को भेजे गए मेसेज की तरह ही गुड्डू वासनिक के वाट्सएप में भी इरशाद कुरैशी बनकर 15 हजार की मांग की गई। परंतु उनसे कोई रिप्लाई न देने के कारण वे ऑनलाइन फ़्रॉड से बच गए।
हमारी सभी गोंदिया वासियों से अपील है कि इस तरह के फ़्रॉड से बचे। कोई किसी भी सूरत में आपसे रुपये की मांग, लालच, गिफ्ट, रुपये डबल, कर्ज, बैंक पासवर्ड, पिन नंबर, कोई लिंक आदि कुछ भी भेजकर आपका अकॉउंट खाली कर सकता है। या रुपये मांगकर ठग सकता है। ऐसा प्रतीत होने पर नजदीक के पुलिस स्टेशन में संपर्क कर इसकी जानकारी दे। फोन पर बात होने पर ही रुपये का आदान प्रदान करें।

Related posts