अक्तूबर अंत तक गोंदिया-जबलपुर ब्राडगेज परियोजना की हो सकती हैं शुरुवात…मेल, एक्सप्रेस, इंटरसिटी जैसी दौड़ेगी फूल स्पीड ट्रेनें

566 Views
सिंगल लाइन पर 1 साल तक निगरानी के बाद शुरू होंगा डबल लाइन का कार्य
हकीक़त टाइम्स।
गोंदिया। दिवंगत तत्कालीन रेलमंत्री रामविलास पासवान एवं दिग्गज नेता प्रफुल्ल पटेल के जनप्रतिनिधित्व में गोंदिया से जबलपुर तक नेरोगेज छोटी लाइन का परिवर्तन ब्रॉडगेज में करने का भूमिपूजन शुभारंभ जानकारी के तहत 1996-97 में गोंदिया रेलवे स्टेशन में हुआ था।
   आज इस बहुप्रतीक्षित ब्राडगेज रेल परियोजना को लगभग 23 साल बीत चुके है और ये अब 2020 में अपने अंतिम पड़ाव में है। खबर है कि उत्तर भारत को दक्षिण भारत से जोड़ने वाली इस ब्राडगेज परियोजना का शुभारंभ अक्तूबर माह के अंत तक किया जा सकता है।
   जानकारी के अनुसार इस बहुप्रतीक्षित ब्राडगेज परियोजना को पूरा करने में लगभग 1700 करोड़ की लागत लगी है। इसे सात चरणों में किया गया है। जबलपुर-गोंदिया के बीच दूरी कम कर इसे 270 किलोमीटर किया गया है। जहां कुछ घंटों में सफर तय होंगा।
   एसईसीआर सीपीआरओ साकेत रंजन के अनुसार कार्य अंतिम दौर में है। पहले इस रूट पर स्पेशल ट्रेन दौड़ाई जायेगी। फिर सीआरएस की हरी झंडी मिलते ही ट्रेनें प्रारंभ होंगी।
   दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के महाप्रबंधक गौतम बैनर्जी ने एक अखबार से किये बातचीत में कहा कि, इस प्रोजेक्ट को काफी अड़चने, फंड की कमी होने से इतना विलंब हुआ। परंतु सिंगल लाइन के कार्य और सर्वे के दौरान ही डबल लाइन की भूमिका बनाई जा चुकी है जिसे बाद में शुरू किया जाएगा। डबलिंग के कार्य को लगभग 4-5 पांच साल लग सकते है।
  इस रूट पर मेल, एक्सप्रेस, सुपरफास्ट ट्रेनों के साथ इंटरसिटी ट्रेनें चलाने का प्रयास है। उत्तर भारत को दक्षिण भारत की कनेक्टिविटी से जुड़ने पर व्यापार, शिक्षा, स्वास्थ्य, चिकित्सा सुविधा क्षेत्र में नई संभावनाए पैदा होंगी और पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा।
इन ट्रेनों के प्रारंभ होने से गोंदिया रेलवे जंक्शन मध्य रेलवे, दक्षिण रेलवे, पूर्व रेलवे तथा उत्तर रेलवे से जुड़ने वाला मुख्य केंद्र होंगा, जहाँ ट्रेनों की आवाजाही अत्यधिक बढ़ जाएगी और रेल सफर आसान होंगा।

Related posts