गोंदिया: किसानों का भरे कुंए में उतरकर आंदोलन.. दो साल से नहीं मिला लाभार्थी किसानों को धड़क सिंचन विहीर योजना का पैसा

402 Views

प्रहार संगठन के बैनर तले सालेकसा के भजेपार में चल रहा किसानों का आंदोलन..

प्रतिनिधि।
गोंदिया। वर्ष 2019-2020 में धड़क सिंचन विहीर(कुंवा) योजना अंतर्गत जिले भर में करीब 500 किसानों को कुंवा निर्माण हेतु निधि मंजूर की गई थी। परंतु इस योजना अंतर्गत दो साल में लाभार्थियों को एक रुपया भी निधि आवंटित नहीं होने पर किसान आर्थिक संकट से जूझ रहे है। इस संकट से जूझ रहे किसानों ने सालेकसा तहसील के भजेपार में एक पानी से भरे कुंवे में उतरकर अपना आंदोलन शुरू किया है, जिससे प्रशासन भी हिल उठा है।
ये आंदोलन प्रहार संगठना के बैनर तले लाभार्थी किसानों द्वारा शुरू किया गया है। इसके पूर्व सालेकसा में कुछ लाभार्थियों ने भी पत्रकार परिषद लेकर इन प्रलंबित निधि को शासन से दिलाने मांग की थी, अब भजेपार में किसानों ने उग्र रूप ले लिया है।
लाभार्थियों का कहना है कि शासन व प्रशासन से अनेक बार निवेदन देकर इस योजना की निधि देने हेतु मांग की गई, पर कोई निधि प्राप्त नही हुई। इस योजना में एक लाभार्थी किसान को ढाई लाख रुपये दिए जाने थे, परंतु पिछले दो सालों में एक भी रुपया नही दिया गया। किसानों को निजी साहूकारों से कर्ज लेकर कुंओ का निर्माण करना पड़ा, जिससे वे कोविड जैसे संकट में आर्थिक तंगी से गुजर रहे है।
लाभर्थियों के इस आंदोलन पर सालेकसा के थानेदार अरविंद राऊत, पटवारी नागपुरे, पंचायत समिति के पदाधिकारियों ने आंदोलन कर रहे किसानों से भेंट की, और उन्हें कुंवे से बाहर आकर आंदोलन समाप्त करने की विनंती की। लाभार्थियों ने कुंवे से बाहर आकर उनसे बातचीत कि और कहा कि जबतक जिलाधिकारी गोंदिया आंदोलन स्थल पर आकर समाधानकारकर जवाव नही देंगे, तब तक ये आंदोलन शुरू रहेगा।
इस आंदोलन में किसान प्रह्लाद बहेकार, टाईकराम ब्राम्हणकर, छगन बहेकार, रघुनाथ चुटे, भागवत बहेकार, गाजेश्वर भांडारकर, पुरुषोत्तम बहेकार वही प्रहार संगठन के सालेकसा शहर प्रमुख विशाल दसरिया, तालुका प्रमुख अभयभाऊ कुराहे, शहर सचिव अजय मछिरके, तालुका उपाध्यक्ष मिथिलेश दमाहे, आमगांव तालुका अध्यक्ष सुनील गिरडकर आदि का समावेश रहा।

Related posts