गोंदिया: उमेद का अधिकारी रिश्वत लेते गिरफ्तार, जिला परिषद में एन्टी करप्शन ब्यूरो की कार्रवाई

1,624 Views
रिपोर्टर। 04 अगस्त
गोंदिया। पालचौक रेलटोली स्थित एक किराए के तौर पर ली गई इमारत का 4 माह का रुका हुआ भाड़ा निकालने की मांग पर आरोपी उमेद अधिकारी द्वारा 10 हजार रुपयों की रिश्वत मांगकर स्वीकारते पाए जाने पर रिश्वत प्रतिबंधक विभाग (एसीबी) ने रंगेहाथ उसे गिरफ्तार किया।
इस मामले में आरोपी अमोल अन्नाजी भागवत उम्र 40 वर्ष, कार्यालय अधीक्षक (अनुबंधीय) महाराष्ट्र राज्य ग्रामीण जीवोन्नत्ति अभियान, जिला अभियान व्यवस्थापन कक्ष (उमेद), जिप गोंदिया बताया गया है।
जानकारी अनुसार जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में स्वयं सहायता समूह की महिलाओं द्वारा उत्पादित वस्तुओं के बिक्री केंद्र (पलाश) को गोंदिया शहर में स्थापित करने जिला अभियान व्यवस्थापन कक्ष (उमेद) द्वारा शिकायतकर्ता के पिता के नाम से स्थित पाल चौक रेलटोली परिसर में उनकी इमारत 14 हजार 455 रु. मासिक भाड़े पर ली गई थी। नवंबर 2020 से फरवरी 2021 तक का मासिक किराया उसे प्राप्त हुआ था, लेकिन बाद में कोविड प्रसार के चलते इस करार को रद्द कर दिया गया था।
शिकायतकर्ता जब बाकी के शेष 4 माह के किराए के संदर्भ में गैर अर्जदार अमोल भागवत से मुलाकात कर किराया निकालकर देने की बात की तो उमेद अधिकारी ने बतौर 10 हजार की रिश्वत मांगी। शिकायतकर्ता ने ये रिश्वत न देने की ठान कर एन्टी करप्शन ब्यूरो, गोंदिया के कार्यालय को 2 अगस्त को शिकायत दर्ज करायी।
एसीबी पुलिस टीम ने इस शिकायत पर 3 अगस्त को जांच पड़ताल की, जिसके बाद 4 अगस्त को जाल बिछाकर आरोपी अमोल भागवत को शिकायत कर्ता से 10 हजार की रिश्वत लेते रंगेहाथों उपस्थित गवाहों के समक्ष गिरफ्तार किया गया।
इस कार्रवाई को पुलिस अधीक्षक एसीबी श्रीमती रश्मि नांदेडकर, अपर पुलिस अधीक्षक मिलिंद तोतरे नागपुर के मार्गदर्शन में पुलिस उपअधीक्षक गोंदिया रमाकांत कोकाटे, सफौ विजय खोब्रागडे, पुहवा प्रदीप तुलस्कर, राजेश शेन्द्रे, नापोशी योगेश ऊइके, रंजीत बिसेन, नितिन रहांगडाले, राजेन्द्र बिसेन, चालक पुहवा देवानंद मारबते ने की।

Related posts