गोंदिया: नोटों के बंडल से भरी बैग लेकर चढ़ रहा था ट्रैन में, गोंदिया रेलवे पुलिस ने दबोचा…

1,247 Views

बैग में रखे अवैध तरीके से 14.75 लाख रुपयों की जानकारी दी आयकर विभाग को..

प्रतिनिधि। 24 मई
गोंदिया। रेलवे स्टेशन गोंदिया में तैनात रेलवे पुलिस कितनी सतर्क, सजग और अपने दायित्वों के प्रति सक्रिय है ये उनके कार्यो से साफ दिखाई देती है। आज रेलवे पुलिस ने एक यात्री द्वारा अवैध तरीके से रुपयों की खेप ट्रैन में ले जाते हुए पकड़ने में सफलता प्राप्त की है।
जानकारी के तहत, गोंदिया रेलवे पुलिस रोजाना प्लेटफार्म पर यात्रियों की सुरक्षा, देखरेख, संदिग्ध परिस्थितियों पर नजर को लेकर चेकिंग अभियान चलाकर गस्त करती रहती है। इसी गस्त के दौरान रेलवे पुलिस स्टेशन में उपनिरीक्षक पद पर तैनात प्रवीण भीमटे को 24 मई को गोपनीय खबर मिली कि कोई प्रवासी रायपुर छत्तीसगढ़ की ओर चलने वाले जनशताब्दी एक्सप्रेस से किसी संदिग्ध वस्तुओ के साथ सफर करने वाला है।
इस खबर की निशानदेही पर पुउपनि प्रवीण भीमटे अपनी टीम के साथ प्लेटफार्म नम्बर 1 स्थित खड़ी जनशताब्दी एक्सप्रेस के पास पहुँच गए, यात्रियों पर नजर बनाएं रखे। इसी दौरान एक व्यक्ति संदिग्ध हालातो पर ट्रेन की तरफ चढ़ता दिखाई दिया। यात्री के पास जाकर पूछताछ की तो उसने अपना नाम संजु मंगल बेहरा उम्र 30 निवासी तरुण नगर, वार्ड नं 30 पंडरीतलाई रायपुर जिला रायपुर छ.ग. बताया।
  पुलिस टीम ने उसके कंधे पर लटके बैग के बारे में पूछताछ की तो, जवाब देने में लड़खड़ाहट दिखाई दी। बैग की जांच करने पर उसमें 2 हजार, 500, 200, 100 के नोटों की भरमार नजर आयी। इन नोटों की खेप को देखकर अधिक पूछताछ हेतु उसे रेलवे पुलिस स्टेशन लाया गया। यहां उससे नोटो की जानकारी मांगी गई, पर वो इन रुपयों की जानकारी देने, अपना मालिकाना हक बताने कोई सबूत पेश नही कर पाया।
   पुलिस टीम ने इस अवैध तरीक़े से रखे रुपयो की दो सरकारी गवाहों के समक्ष गिनती की तो उसमें कुल 14 लाख, 75 हजार 300 रुपये पाएं गए। इस मामले की सूचना गोंदिया के आयकर विभाग को दी गई, जिसकी जांच आयकर विभाग करेगा।
   इस कार्रवाई को पुलिस अधीक्षक रेलवे सो.एम. राजकुमार, अपर पुलिस अधीक्षक रेलवे वैशाली शिंदे,  एसडीओपी रेलवे व्ही. शिंदे, के मार्गदर्शन में प्रभारी अधिकारी अनिता खेड़कर, जांच व कार्रवाई अधिकारी पुउपनि प्रवीण भीमटे, पोहवा अरुण गोंदोडे, पोकां ओमप्रकाश सेलोटे, नंदकिशोर नारनवरे, अखिलेश राय आदि ने की।

Related posts