गोंदिया में ऑक्सीजन सिलेंडर का गहराया संकट, बालाघाट, भंडारा, राजनांदगांव से हुई पूर्ति

832 Views

 

विधायक डॉ. परिणय फुके, विधायक विनोद अग्रवाल, पार्षद कल्लू यादव का सरहानीय प्रयास

संकट की घड़ी में विधायक विनोद अग्रवाल, पुलिस अधीक्षक विश्व पानसरे व अन्य अधिकारी डटे रहे व्यवस्था में…

प्रतिनिधि। 16 अप्रैल
गोंदिया। गुरुवार को गोंदिया जिले में ऑक्सीजन सिलेंडर का संकट गहरा जाने से स्वास्थ्य सेवा लड़खड़ा गई। आनन फानन में जिलाधिकारी श्री मीणा ने ऑक्सीजन सिलेंडर की त्वरित पूर्तता हेतु सहयोग हॉस्पिटल को निर्देश दिए वही समाजसेवक व नगरसेवक लोकेश (कल्लू) यादव ने ऑक्सीजन सिलेंडर की व्यवस्था कर इस संकट से निपटने एक योद्धा के रूप में अग्रसर रहे।

ऑक्सीजन सिलेंडर के संकट को देखते हुए स्वास्थ्य सुविधा अनियंत्रित न हो इस हेतु जिलाधिकारी गोंदिया से समन्वय स्थापित कर भर्ती मरीजों के उपचारार्थ विधायक डॉ. परिणय फुके ने भंडारा स्थित सनफ्लेग स्टील कंपनी से 100 ऑक्सिजन सिलेंडर रातों-रात गोंदिया पहुँचाने में अथक प्रयास किया। वही गोंदिया के विधायक विनोद अग्रवाल ने शासकीय वैद्यकीय महाविद्यालय में रातभर मौजूद रहकर बालाघाट से रात्रि 2 बजे 40 सिलेंडर की पूर्ति करवाई।

विधायक विनोद अग्रवाल ने रात्रि में ही मध्यप्रदेश के पूर्व मंत्री गौरीशंकर बिसेन एवं छत्तीसगढ़ के पूर्व केबिनेट मंत्री बृजमोहन अग्रवाल को फोन कर गोंदिया की हालिया स्थिति से अवगत कराया था, एवं उनसे सहयोग के रूप में ऑक्सीजन सिलेंडर की मांग की। गंभीर स्थिति को देख पूर्व मंत्री गौरीशंकर बिसेन ने 40 सिलेंडर की पूर्ति बालाघाट से करवाई वही 90 सिलेंडर पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने राजनांदगांव से भेजने का अथक प्रयास किया। ये सिलेंडर भी राजनांदगांव से निकल चुके है जो सुबह सुबह पहुँचने की संभावना है।

विधायकगणों द्वारा संकट की इस घड़ी में अपना कर्तव्य निभाते हुए मरीजो की सेवा में रात भर व्यवस्था संभालने पर उनकी प्रशंशा की जा रही है। संकट के इस लम्हों पर जिले के जिलाधिकारी श्री दीपककुमार मीणा द्वारा निरन्तर निगरानी रखने, जनप्रतिनिधियों से समन्वय स्थापित रखने, जिला पुलिस अधीक्षक व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों द्वारा भरसक प्रयास करने से ये बात साफ है कि सब मिलकर इस जंग में शामिल है और जीत संभव है।

हमें भी इस जंग में अपनी जिम्मेदारी निभानी होंगी, तभी हम इसे जितने में कामयाब होंगे। बस हमें दूरियां बनाने, घर पर खुद को सुरक्षित रखकर प्रशासन का साथ देना है।

Related posts