गोंदिया एसीबी की कार्रवाई: तिरोडा की बालविकास प्रकल्प अधिकारी अंजलि बावनकर व आंगनवाड़ी पर्यवेक्षिका उषा आगासे 20 हजार की रिश्वत लेते गिरफ्तार..

3,293 Views

 

कम्प्यूटर प्रशिक्षण लेने वाले बच्चों के बिल मंजूर कराने हेतु प्रत्येक लाभार्थी 600 रुपये रिश्वत की थी मांग..

प्रतिनिधि।
गोंदिया। आज मंगलवार 19 जनवरी को एन्टी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) गोंदिया की टीम ने जिला परिषद के महिला व बालकल्याण की अनुसूचित जाति-जमाति योजना अंतगर्त एक निजी संस्था से प्रशिक्षण लेने वाले बच्चों के बिल मंजूर कराने के नाम पर तिरोडा बालविकास प्रकल्प प्रभारी अधिकारी व पर्यवेक्षिका सौ. अंजलि बावनकर व आंगनवाड़ी पर्यवेक्षिका सौ. उषा यशवंतराव आगासे को शिकायतकर्ता से 20 हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया है।
   इस मामले पर एसीबी की टीम ने कार्रवाई कर रिश्वत प्रतिबंधक अधिनियम 1988 (सुधारित अधिनियम 2018) की धारा  7 के तहत रेलवे पुलिस गोंदिया में मामला दर्ज किया है।
   बताया गया कि, जिला परिषद के महिला व बालकल्याण की अनुसूचित जाति-जमाति योजना अंतगर्त युवतियों के व्यक्तिक लाभ हेतु कंप्यूटर प्रशिक्षण देने का कार्य शिकायतकर्ता निजी संस्था IGM कंप्यूटर को 20 दिसंबर 2020 को दिया गया था। शिकायतकर्ता ने इस प्रशिक्षण देने हेतु महाराष्ट्र ज्ञान महामंडल, पुणे (एमकेसीएल) में 35 लाभार्थीयों का प्रशिक्षण शुल्क ऑनलाइन सिस्टम प्रणाली से जमा कर अपने संस्था के माध्यम से प्रशिक्षण शुरू किया था।
   30 दिसम्बर को शिकायतकर्ता ने लाभार्थीयो के प्रशिक्षण शुल्क भुगतान के संदर्भ में बातचीत के लिहाज से बालविकास प्रकल्प अधिकारी बावनकर मेडम को फोन किया था। इस दौरान बावनकर मैडम ने शुल्क देयक तैयार कर पंचायत समिति भेजने के एवज में 35 में प्रत्येक लाभार्थी 600 रुपये रिश्वत ऐसे कुल 21 हजार रुपयों की मांग की थी। ये रिश्वत देने की जरा भी इच्छा ना होने पर उन्होंने एसीबी गोंदिया में 15 जनवरी को शिकायत दर्ज कराई थी।
   18 जनवरी को सारी जांच पड़ताल करने पर 20 हजार की रिश्वत लेने का स्पस्ट होने पर आज 19 जनवरी को एन्टी करप्शन ब्यूरो की टीम ने जाल बिछाकर पंच के समक्ष 20 हजार रुपये लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया।
    इस कार्रवाई को एसीबी विभाग नागपुर के पुलिस अधीक्षक रश्मि नांदेड़कर, अपर पुलिस अधीक्षक राजेश दुद्दलवार, अपर पुलिस अधीक्षक मिलिंद तोतरे के मार्गदर्शन में पुलिस उपअधीक्षक गोंदिया रमाकांत कोकाटे, सफौ शिवशंकर तुंबड़े, पोहवा राजेश शेन्द्रे, नापोसि नितिन रहांगडाले, राजेन्द्र बिसेन, मनापोशि गीता खोब्रागडे, वंदना बिसेन आदि कर्मचारियों ने अंजाम दिया।

Related posts