गोंदिया: 14 साल की नाबालिग छात्रा का मौत प्रकरण, मृतक के परिजन ने कहा ये दुर्घटना नही, बच्ची के साथ हैवानियत कर हत्या का प्रयास किया गया

2,844 Views

रामनगर पुलिस दर्ज करें अपहरण, पॉक्सो एवं हत्या का मामला..

प्रतिनिधि।
गोंदिया। शनिवार 16 जनवरी को अपने घर से ट्यूशन जाने निकली 14 वर्षीय नाबालिग छात्रा गोंदिया-तिरोडा रोड पर भागवतटोला के समीप रास्ते पर घायल अवस्था में राहगीरों को दिखाई दी थी। इस बालिका को राहगीरों की मदद से गोंदिया के सहयोग हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। परंतु बालिका की उपचार के दौरान 17 जनवरी की सुबह मौत हो गई।
    इस मामले पर मृतक के पिता धुरवास भोयर निवासी मरारटोली, गोंदिया, माता व अन्य परिजनों ने बालिका की मौत पर संदेह जताकर मृतक के साथ शारीरिक शोषण, अपहरण व हत्या करने का प्रयास किये जाने की शंका जाहिर की।
  आज शासकीय विश्राम गृह में एक पत्रकार परिषद लेकर उन्होंने रामनगर थाना पुलिस पर संदिग्ध आरोपियों को बचाने का प्रयास करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, पुलिस इस मामले पर हमारी शिकायत दर्ज नही कर रही है। हमें संदेह है कि उनकी नाबालिग बेटी का अपहरण कर उसके साथ दुराचार हुआ है फिर उसकी हत्या करने का प्रयास हुआ जिससे उसकी मौत हो गई।
   उन्होंने बताया कि उनकी 14 वर्षीय नाबालिग बेटी निर्मल स्कूल में कक्षा 9 की छात्रा थी। एक सप्ताह से वे स्कूल जा रही थी। स्कूल की गुप्ता नामक मैडम के पास पुनाटोली में दोपहर 3 बजे से शाम 5 बजे तक ट्यूशन जाती थी। घटना वाले दिन वो ट्यूशन के लिए मरारटोली स्थित घर से निकली थी। पर शाम को 5 बजे मैडम का फोन आया कि वो आज ट्यूशन नहीं पहुँची। शाम को 6 बजे के बाद सहयोग हॉस्पिटल से फोन आया की उनकी बेटी यहां भर्ती है।
  मृतक के सिर में चोट दिखाई दे रही थी। बताया गया कि उसका भागवतटोला के समीप सड़क एक्सीडेंट हुआ जिसमें वो घायल हुई है। डॉक्टरी रिपोर्ट के अनुसार उसके सर पर फ्रेक्चर होना बताया गया। सुबह के दौरान उसकी मौत हो गई।
   पत्र परिसद में उन्होंने कहा, पुलिस कहती है कि मृतक दोस्तों के साथ बाइक पर घूमने गई थी, जहां सड़क हादसे में वो घायल हुई। अगर उनकी बेटी दोस्तों के साथ घूमने गई थी, तो उसे दोस्तो ने उठाकर अस्पताल क्यों नहीं लाया, उस दौरान वे कहा थे। जिस बाइक को दिखाया जा रहा है, उसमें कोई खरोच तक नहीं है। उन्हें संदेह है कि उसका अपहरण कर उसके साथ हैवानियत हुई फिर जान से मारने का प्रयत्न किया गया।
  मृतक के परिजनों ने बताया कि उन्हें जिन युवकों पर शक है पुलिस उन्हें गिरफ्तार नही कर रही है। इस मामले पर पुलिस एक दलित युवक को आगे रखकर अन्य जाती के युवकों को बचाने का प्रयास कर रही है। हमें न्याय चाहिए, आज वे युवक खुलेआम घूम रहे है। परिजनों ने अपहरण, पॉस्को एव हत्या का मामला दर्ज कर आरोपियों के गिरफ्तारी की मांग की है। इस दौरान पूर्व पार्षद सुनील भरने, वरिष्ठ समाजसेविका प्रा. सविताताई बेदरकर, स्नेहा गड़पायेले एवं अन्य समाज के लोग उपस्थित थे।
   इस मामले पर रामनगर थाना पुलिस निरीक्षक प्रमोद घोंगे का कहना है कि हमनें उनकी शिकायत को ले लिया है। और अपने स्तर के साथ उनके बताए अनुसार भी जांच पड़ताल कर रहे है।

Related posts