महिलाओं के हक्क और अधिकारों की जननी है क्रांतिज्योति सावित्रीबाई फुले-पूर्व विधायक राजेन्द्र जैन

581 Views

 

देश की प्रथम महिला शिक्षिका सावित्रीबाई फुले की जयंती मनाई गई राष्ट्रवादी कांग्रेस भवन में

प्रतिनिधि।

गोंदिया। 19 वीं सदी में स्त्रियों के अधिकारों अशिक्षा छुआछूत सतीप्रथा बाल या विधवा विवाह जैसी कुरीतियों पर आवाज उठाने वाली देश की पहली महिला शिक्षिका क्रांतिज्योति सावित्रीबाई फुले को आज उनकी जयंती पर राष्ट्रवादी कांग्रेस भवन में याद किया गया। उनकी जयंती पर पूर्व विधायक राजेन्द्र जैन एवं पक्ष के महिला पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं ने क्रांतिज्योति सावित्रीबाई फुले के तैल चित्र पर पुष्प अर्पित कर उनका अभिवादन किया।


जयंती कार्यक्रम में पूर्व विधायक राजेन्द्र जैन ने क्रांतिज्योति सावित्रीबाई फुले के कड़े संघर्षशील जीवन पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा आज महिलाओं को जो हक और अधिकार प्राप्त है वो सावित्रीबाई फुले के संघर्ष का प्रतिफल है ।
उन्होंने कहा क्रांतिज्योति सावित्रीबाई फुले ने 19 वी सदी के दौर में महाराष्ट्र में नायगाव में ( 03 -01 -1831)को जन्म लेकर समाज में क्रांति लाने का कार्य किया जिसका प्रकाश पूरे भारत में फैला। क्रांतिज्योति सावित्रीबाई ने ज्योतिबाफुले के साथ विवाह कर अपनी पढ़ाई की और उस दौर में जिन बालिकाओं को शिक्षा से दूर रखा जाता था उस समय एक समाज सुधारक बनकर बालिकाओ के लिए पुणे के शनिवारपेठ में 01 जनवरी 1848 में पहली महिला स्कूल खोलने का साहस दिखाया और अंधविश्वासी रूढ़िवादी परंपरा की बेड़ियों को तोड़ने का लंबा संघर्ष किया। सही मायने में महिलाओं के हक अधिकार की जननी क्रांतिज्योति सावित्रीबाई फुले है।

राष्ट्रवादी काॅंग्रेस पार्टी महिला जिला अध्यक्ष राजलक्ष्मी तुरकर ने अपने संबोधन में क्रांतिज्योति सावित्रीबाई फुले के जीवन पर विचार व्यक्त करते हुये कहाॅं कि आज हमें महिलाओं को सावित्रीबाई फुले के जीवन को आत्मसात करने की आवश्यकता है। इनके प्रेरित मार्गो पर चलकर ही हम उनके उद्देशो को साकार कर सकते है एवं महिलाओं को हक्क अधिकारी दिलाने का प्रयास कर सकते है। इस अवसर पर पार्टी पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं ने भी जयंती निमित्त अपने अपने विचार व्यक्त कर सावित्रीबाई फुले को विनम्र अभिवादन किया ।

इस अवसर पर जिला महिला अध्यक्ष राजलक्ष्मी तुरकर, शहर अध्यक्ष आषाताई पाटील, सुशिलाताई भालेराव, दुर्गाबाई तिराले, विणा पंचम बिसेन, निताताई रहांगडाले, सुनिताताई मडावी, कविता रहांगडाले, लता रहांगडाले, पुश्तकला माने, रंजु अगडे, आशा पिल्लारे, गायत्री साबडे, अनिता तुरकर, मंदाबाई कुंभरे, उमा सिंग, सुषमा खडोदे, शिलाताई, शारदा राऊत, सुनिताबाई नागपुरे, शर्मिला येडे, रंजना उके, रेखा जमदाड, ज्योति मडावी, रजनी बिसेन, गोंदिया शहर अध्यक्ष अशोक सहारे,डाॅ.अविनाश काशीवार, राजु एन जैन, दिलीप पाटील, सुनिल पटले, शैलेस वासनिक, लोकेश टेंभरे, नितीन टेंभरे, चंद्रकांत साबडे, महेश पटले, के.एम.काशीवार,किशोर कुंभरे, राजेेन्द्र टेकाम आदि प्रमुख उपस्थित थे।

Related posts