गोंदिया: विधायक विनोद अग्रवाल का चाबी संगठन उतरा मैदान में, आगामी जिला परिषद पंचायत समिती चुनाव लड़ने की भरी हुंकार…

673 Views

कुछ लोग काम में ब्रेकर बनकर अवरोध बन रहें है, सत्य परेशान हो सकता, पराजित नहीं- विधायक विनोद अग्रवाल

प्रतिनिधि।
 गोंदिया। आगामी जिला परिषद पंचायत समिती चुनाव की चहलपहल सम्पूर्ण जिले मे जोरों पर है। विधानसभा चुनाव में निर्दलीय जीत हासिल कर विधानभवन में अपनी जगह बनाने वाले गोंदिया जिले के इतिहास में पहले और एकमात्र निर्दलीय विधायक बनने वाले जनता के विधायक विनोद अग्रवाल ने किसी भी पार्टी के साथ न जाते हुए खुद का चाबी संघटन स्थापन किया। आगामी जिला परिषद पंचायत समिति चुनावों में पूरी ताकत से लड़ने का ऐलान छत्रपाल तुरकर इनके अध्यक्षता में हुए विनोद अग्रवाल समर्थको की समीक्षा बैठक में किया गया। 
    आगामी जिला परिषद पंचायत समिति चुनावों मे सभी जगह पर उमेदवार खड़ा कर पूरी ताकत से चुनाव मे जीत हासिल करेंगे, ऐसे विधायक विनोद अग्रवाल ने कहा है। उपस्थित सभी कार्यकर्ताओ को तनमन से काम करने का आदेश दिया गया।
    पिछले विधानसभा के चुनाव मे हमे जहा कम मतदान हुआ है वहा ज्यादा मेंहनत ले और जहा अच्छे प्रमाण मे मतदान हुआ है वहा हमने पिछले 1 साल मे जो काम किए है वे काम लोगों तक पहुचाने का कार्य करने का आव्हान किया। पिछले 20-25 साल मे जो काम नहीं हुए है वे हमने एक साल मे करने का प्रयास किया है। जिन मे से कई काम पूर्ण हो गए तो कई काम प्रगतिपर है। इन कामों को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुचना जरूरी है और इसी से लोगों का विश्वास प्राप्त कर पाएंगे, ऐसे विनोद अग्रवाल इन्होंने अपने मार्गदर्शन मे कहते हुए कार्यकर्तावों को  चुनावों की तयारी करने को कहा।

विधानसभा क्षेत्र के विकासकार्यो पर ब्रेक लगाने का कार्य सफल नहीं होने दूंगा..

सारे विधानसभा क्षेत्र से बड़े पैमाने से विनोद अग्रवाल समर्थकों ने कामठा में आयोजित समीक्षा बैठक मे उपस्थिति दर्ज की थी। जिन्हे संबोधित करते हुए विधायक विनोद अग्रवाल इन्होंने पिछले साल भर मे किए गए कार्यों को उजागर किया। उस पश्चात उन्होंने माजी जनप्रतिनिधि पर कड़े शब्दों पर वार करते हुए नींदा की। कार्यकर्तावों को पूरे साल भर मे किए गए कामों को जनता तक पुहुचने एंव एकता बरकरार रखने का आव्हान किया। सत्य को परेशान किया जा सकता है लेकिन पराजित नहीं। हम सभी सत्य के बाजुु खड़े है, और अपनी जीत पक्की है। कोई कितना भी परेशान करने की कोशिश कर ले लेकिन वीकास कार्य की गाड़ी पटरी से नहीं उतरेगी। पिछले सत्तापर जो लोग थे वे किस तरीके से लोगों को परेशान कर रहे थे ये अभी सामने आ रहा है। परेशान करने की आदतों से वे अभी तक नहीं बदल पाए है और आज भी परेशान करने का सिलसिला बरकरार है। लेकिन मैं सभी से वादा करता हु की कोई कितना भी स्टे लगाने की कोशिश कर ले लेकिन विकास कार्य होकर रहेंगे, ऐसे कड़े शब्दों मे विधायक विनोद अग्रवाल ने पूर्व विधायक पर निशाना साधते हुए कोर्ट के माध्यम से कामों पर स्टे लाने के काम का विरोध दर्शाया। इसके बावजूद ग्रामीण क्षेत्र के विकास कार्यों पर ब्रेक नहीं लगने दूंगा ऐसे भी विनोद अग्रवाल इन्होंने उपस्थित कार्यकर्तावों का हौसला बढ़ाया।

नागरिकों ने निर्दलीय जिताया है, उनकी इच्छापूर्ति मेरा प्रथम कर्तव्य..

नागरिकोंने बड़े विश्वास के साथ मुझे निर्दलीय जीत दिलाई है। मै उनके विश्वास पर हमेशा खरा उतरने हेतु प्रयत्नशील रहूँगा। नागरिकों के हमसे बहोत सारी अपेक्षाए है, जिन्हे पूर्ण करने की मंशा से हम सभी काम मे जुटे हुए है। किन्तु कुछ लोग ग्रामीण क्षेत्र के नागरिकों के  विकास के आड़े आकर कोर्ट के माध्यम से स्टे लगाने का कार्य कर रहे है। ये कार्य निंदनीय है, और ऐसे हरकत करने वाले लोगों की मानसिकता का अंदाज आप सभी लगा सकते है, ऐसे कड़े शब्दों मे पूर्व विधायक का जमकर विरोध किया। इसके बावजूद हमने पिछले साल भर मे बड़े पैमाने मे काम किया है। अब आप सभी को इन सभी कार्यों को जनता के पास पहुचने और उनके कोई कामों को सुलझाने का कार्य करना है, ऐसे विधायक विनोद अग्रवाल ने कार्यकर्ताओ को संबोधित करते हुए कहा।  शासन की अलग अलग योजनाओ को लोगों तक पहुचाकर उसका उन्हे लाभ दिलाने प्रयास करने की सलाह कार्यकर्ताओ को दी गई।

 समीक्षा बैठक में इन लोगों की रही उपस्थिति..

 
 अध्यक्ष स्थान पर छत्रपाल तुरकर इनके साथ विधायक विनोद अग्रवाल, पृथ्वीराज सिंह नागपुरे, मुनेश राहंगडाले, कशिश जायस्वाल, अनिल हुदांनी, शिव शर्मा, दुर्गेश राहंगडाले, चैताली सिंह नागपुरे, धनंजय तुरकर, जितलाल पाचे, सुजीत येवले, बेबी अग्रवाल, ज्ञानचंद जमईवार, लखन हरिणखेडे, कमलेश सोनवाने, मोहन गौतम, सुभानराव राहंगडाले, अंकेश येडे, रामराज खरे, परसराम हुमे, हंसराज वासनिक, अनिल मते, शुभाष मुंदडा, शंकर नारनवरे, लिलेश्वर कुंभरे, मुकेश हलमारे आदि मंच पर उपस्थित थे। साथ ही मे किशोर दुबे, मिलन पाथोडे, फिरोज बंसोड, रमेश येडे, किशोर लील्हारे, सूरज लील्हारे, प्रदीप दहिकर, पवन गौतम, आशीष आस्वले, सुरपत खैरवार, नीलेश उमरे, प्रकाश सेवतकर, भूमेश्वर कटरे, जियालाल बोपचे, देवा मारवाडे, गणेश भेलावे, अभिमन्यु साठवणे, झिंगर पटले, विककी बघेले, आत्माराम भेलावे, मदनलाल पटले, राजू ब्राह्मणकर, नरेश येडे, चेतन बहेकार, मनमोहन श्रीवास, मिथुन पाचे, धनलाल बाहे, भैय्यालाल ठाकूर, सुखचंद येडे, प्रीतम मेश्राम, सुधीर चंद्रिकापुरे, शेखर वाढवे, लखन मेंढे, छोटू तुरकर, भरतलाल बिसेन, मुकेश पाल, बेनिराम फूलबांधे, देवराम हेमणे, दीनदयाल गायधणे, मुकेश राहंगडाले, रोशन पाथोडे, गजानन बिसेन, देवानंद पटले, महेश मेश्राम, मदनलाल तुरकर, शेखर शहारे, हिमांशु कटरे, सूर्यामणी राहंगडाले, बालू बिसेन, कैलाश कुंजाम, शंकर अटरे, प्रीतम मेश्राम, सुधीर चंद्रिकापुरे, शालिक रक्से, बळिराम शरणागत, खेमराज भाजीपाले, सदूभाऊ शेंडे एंव समस्थ विनोद अग्रवाल समर्थक बड़ी संख्या मे उपस्थित थे।

Related posts