गोंदिया: जिलाधिकारी महोदया, 1 से 14 साल के बच्चों पर लगाएं स्कूल से ब्रेक- मुकेश शिवहरे

820 Views

 

छोटे बच्चों पर बड़ा खतरा, ओमिक्रोन से बचाने 14 साल तक के बच्चों के लिए नहीं है कोई प्रयायी विकल्प…

प्रतिनिधि। 03 जनवरी
गोंदिया। एक तरफ कोविड की राज्य में बढ़ती स्पीड से तीसरी लहर की संभावना व्यक्त की जा रही है, वही दूसरी तरफ इससे लड़ने के लिए अब 15 साल से 18 साल तक के बच्चों को भी आज से वैक्सीन लगाने की कवायद शुरू कर दी गई है। ऐसे में बड़ा संकट उन बच्चों पर मंडरा रहा है, जो फिलहाल वैक्सीन लगाने की जद में नही है।

इस गंभीर मामले पर गोंदिया जिलाधिकारी श्रीमती नयना गुंडे का ध्यानकेन्द्रित करते हुए गोंदिया जिले के शिवसेना सहसम्पर्क प्रमुख मुकेश शिवहरे ने मांग करते हुए कहा कि, देश व राज्य में कोविड के नए प्रकार ओमिक्रोन का खतरा मंडरा रहा है। सभी जानते है कि ये कितना घातक है। इसकी रोकथाम के लिए वेक्सिनेशन पर जोर दिया जा रहा है। यहाँ तक कि अब 15 साल से 18 साल तक के बच्चों को भी वेक्सिन देने की शुरुआत की जा चुकी है। ऐसे में उन बच्चों का क्या, जो 1 से 14 साल की उम्र के है?

शिवसेना नेता श्री शिवहरे ने कहा, जिले में कोविड के मामले बढ़ते जा रहे है। 1ली से कक्षाएं शुरू की जा चुकी है। जो बच्चे वैक्सीन की जद में नहीं है और स्कूल जा रहे है, वे बच्चे कोविड संक्रमण को बढ़ावा दे सकते है। ऐसे में 14 साल तक के बच्चे सुरक्षित नहीं है। जिलाधिकारी महोदया ने वर्तमान संकट का खतरा टलने तक या बच्चों के वैक्सीन आये तक ब्रेक द चैन नियम अंतर्गत इनके स्कूल जाने पर पाबंदी के आदेश जारी किए जाने चाहिए, जिससे उन्हें आने वाले खतरे से बचाया जा सकें।

Related posts