गोंदिया: रिटायर्ड पुलिस कर्मी का 24 वर्षीय बेटा “डेविड” बना “IFS, पहले ही प्रयास में यूपीएससी परीक्षा उत्तीर्ण

1,325 Views

 

मंजिले उन्ही को मिलती है, जिनके हौसलों में उड़ान होती है..अब डेविड आईएफएस के बाद आईएएस की तैयारी में..

प्रतिनिधि। 31 अक्तूबर

गोंदिया। केंद्रीय लोकसेवा आयोग परीक्षा अर्थात यूपीएससी का अंतिम परिणाम 29 अक्टूबर को घोषित किया गया है। जिसमें ऑल इंडिया आयएफएस की रैंक में 83वां क्रमांक प्राप्त कर पहले ही प्रयास में यूपीएससी की परीक्षा उत्तीर्ण कर सेवानिवृत्त पुलिस शिपाई के बेटे डेविड व्यंकटराव चनाप (24) ने सफलता प्राप्त की है।
गोंदिया जिले के नक्सलग्रस्त आदिवासी बहुल तहसील के हरदोली निवासी डेविड व्यंकटराव चनाप यह सामान्य परिवार से होकर सेवानिवृत्त पुलिस शिपाई का बेटा है। डेविड बचपन से ही होशियार तथा कुछ करने की तमन्ना थी। डेविड ने प्राथमिक शिक्षा सरकारी स्कूल दांडेगाव में प्राप्त की। उसके बाद उसके पिता का स्थानांतरण आमगाव होने के कारण डेविड को भी अपने पिता के साथ आमगाव जाना पडा। और वहां पर एक निजी संस्था के कॉलेज में कक्षा बारावी तक पढाई पूरी की। शिक्षा में डेविड होशियार होने के कारण कक्षा दसवी में 95 व कक्षा बारावी में 92 प्रतिशत अंक प्राप्त कर मेरिट की सूचि में अपना नाम दर्ज किया है। उसके बाद सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेज पूना में उसने आगे की शिक्षा मॅकेनिकल में बीटॅक किया। इस दौरान डेविड के सहयोगियों ने यूपीएससी की तैयारी करने सलाह दी। बगैर कोचिंग वह सहयोगियों की मदत से वर्ष 2019-20 में आयोजित आयएफएस की यूपीएससी परीक्षा दी। जिसका परिणाम 29 अक्टुबर को घोषित किया गया। जिसमें ऑल इंडिया रँक में 83 वा क्रमांक डेविडने प्राप्त किया है।

विशेष यह है कि, डेविड की उम्र मात्र 24 वर्ष होकर किसी भी प्रकार की कोचिंग नही लगाई। और ना ही घर से आर्थीक मदत ली। डेविडने अपनी सफलता का श्रेय माता-पिता, भाई एवं अपने सहयोगियों को दिया है।

आयएएस अधिकारी बनने की इच्छा..

यूपीएससी की आयएफएस परीक्षा में सफल होने में सफलता मिली है। लेकिन मैं आयएएस अधिकारी बनना चाहता हूं। इसके लिए तैयारियां शुरू कर दी है। आयएएस की परीक्षा जनवरी 2022 में होने जा रही है। इस परीक्षा में भी मुझे अच्छे अंक प्राप्त होंगे। इस उम्मीद से आगे की पढाई शुरू कर दी है। मन में लगन और दृढ इच्छा हो तो कठिण राह को भी आसान किया जा सकता है।
– डेविड व्यंकटराव चनाप, गोंदिया

आदिवासी समाज में डेविड पहले आयएफएस..

इस संदर्भ में अखिल भारतीय आदिवासी विकास परिषद के अजय काटेवार ने जानकारी देते हुये बताया कि, डेविड चनाप ऐसे आदिवासी समाज के पहले विद्यार्थी है, जिसने आयएफएस की यूपीएससी परीक्षा पहले ही प्रयास में उत्तीर्ण होकर आयएफएस श्रेणी के अधिकारियों की सूचि में अपना नाम दर्ज किया है। डेविड की सफलता गोंदिया जिलेवासियों एवं आदिवासी विद्यार्थीयों के लिए प्रेरणा बन रही है। जल्द ही समाज की ओर से डेविट का सत्कार किया जाएगा।

Related posts