महाराष्ट्र एक्सप्रेस” का परिचालन सिर्फ गोंदिया तक ही रहें, रीवा तक करना यात्रियों के साथ अन्याय- रेलवे सलाहकार समिति सदस्यों ने दिया निवेदन ….

424 Views
प्रतिनिधि।
गोंदिया। रेलयात्रियों के कड़े संघर्ष और जद्दोजहद के बाद गोंदिया तक लायी गई महाराष्ट्र एक्सप्रेस गोंदिया वासियों के लिए उनकी शान और रेलयात्रियों के लिए लाइफ लाइन एक्सप्रेस है। इस महाराष्ट्र एक्सप्रेस को गोंदिया से हटाकर मध्यप्रदेश के रीवा तक विस्तार किये जाने का प्रस्ताव रेल बोर्ड को भेजा गया है, जिसका हर तरफ से विरोध किया जा रहा है।
  गौरतलब है कि महाराष्ट्र एक्सप्रेस ट्रेन को 25 वर्ष पूर्व 1996 में तत्कालीन रेल राज्यमंत्री सुरेश कलमाड़ी द्वारा हरी झंडी दिखाकर गोंदिया से कोल्हापुर हेतु किया गया था। इस ट्रेन को कई बार गोंदिया से छीनने का प्रयास किया गया, पर गोंदिया की जनता के विरोध के चलते इसके विस्तार को रोकने का प्रयास किया गया है।
   महाराष्ट्र एक्सप्रेस यह एकमात्र ट्रेन है, जो गोंदिया से कोल्हापुर तक चलती है.सुविधाओं की प्रतीक होने के साथ ही गोंदिया की शान के रूप में स्थापित है। इसका विस्तार रीवा तक किया जाना गोंदिया-भंडारा एवं नागपुर जिले के यात्रियों के साथ अन्याय है। यह विस्तार यात्रियों के हित में नहीं है।
  इस उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए और इस निर्णय का विरोध करते हुए गोंदिया रेलवे स्टेशन सलाहकार समिति सदस्यों द्वारा अप्पर मंडल प्रबंधक ए.के सूर्यवंशी को मुख्य वाणिज्य निरीक्षक गोंदिया अरविंद कुमार, के उपस्थिति में निवेदन दिया गया।
  साथ ही कोरोना महामारी की दूसरी लहर को ध्यान में रखते हुए शहर के मेन मार्केट टिकिट घर पदचारी पुल से रेलटोली की ओर जाने वाला टिकट घर तक  यात्रियों के आवागमन के लिए एक बार फिर से बंद किया गया था। लेकिन अब जिला प्रशासन ने अनलॉक घोषित कर दिया है तथा जिले के भी मरीजों की संख्या सर्वसाधारण हो गई है। इस सकारात्मक मुद्दे को ध्यान में रखकर शहर के मेन मार्केट टिकट घर से रेलटोली की ओर जाने वाला रेलटोली( टिकट घर)पदचारी पुल पुनः शुरू किये जाने की विनती सलाहकार समिति गोंदिया की ओर से की गई।
निवेदन देने के दौरान सूरज नशीने, दिव्या भगत- पारधी, लक्ष्मण लधानी, राजेंद्र कावड़े, हरीश अग्रवाल, अकील नायक, स्मिता शरणागत, जसपालसिंग चावला, भेलूमन गोपलानी, छैलबिहारी अग्रवाल आदि उपस्थित थे।

Related posts