ग्रामीण विकास यंत्रणा भंडारा के प्रोग्रामर ने की आत्महत्या, रिक्त पदों पर नौकरी लगाने के नाम पर मृतक के माध्यम से संस्था के आरोपियों ने डकारे रुपये…

326 Views

रुपये लौटाने की चिंता व आरोपियों द्वारा नहीं देने पर की मेरे पति ने आत्महत्या- पत्नी ने लगाया आरोप

रिपोर्टर।
गोंदिया। जिले के गोरेगांव थाने में एक महिला द्वारा उसके  पति की आत्महत्या किये जाने का मामला सामने आया है। मृतक की पत्नी ने उसके मौत का कारण एक एनजीओ के लोगों पर लगाया है।
    घटना के संदर्भ में फिर्यादि महिला प्रांजु संदीप हरिनखेड़े उम्र 19 वर्ष निवासी खाडीपार द्वारा दर्ज शिकायत में बताया कि, उसका पति मृतक संदीप कन्हैयालाल हरिनखेड़े उम्र 27 वर्ष निवासी खाडीपार भंडारा के ग्रामीण विकास यंत्रणा में प्रोग्रामर के पद पर नौकरी में कार्यरत थे।
    रिपोर्ट अनुसार उसके मृतक पति को एनजीओ के आरोपी क्र 1 व 2 ने ग्रामीण विकास यंत्रणा संस्था में रिक्त पदों की भर्ती करने हेतु प्रत्येक युवकों से 20 से 25 हजार लेने की बात की थी तथा 5 हजार खुद अपने पास रखकर बाकी के रुपये आरोपियों को देने को कहा था। मृतक ने लड़को की ओर से नौकरी लगाने के नाम पर रुपये लेकर ये पैसा आरोपियों के खाते में सीडीएम मशीन के माध्यम से डाल दिया था।
    रिपोर्ट में बताया गया कि पैसे लेने के बाद उन युवाओं को नौकरी में नहीं रखे जाने पर वो रुपये वापस करने की मांग मृतक से करने लगे। इस पर मृतक ने आरोपियों से पैसे लौटाने की मांग बार बार की, पर आरोपियों ने मृतक से कहा कि, उसके पास क्या सबूत है कि उसने हमें पैसा दिया। इस बात से मानसिक रूप से चिंतित व परेशान होकर मेरे पति ने आत्महत्या कर ली।
    फिर्यादि ने कहा, इस आत्महत्या का कारण आरोपी है। इन लोगों द्वारा नौकरी के नाम पर रुपये पैसे लेकर युवाओ से धोखाधड़ी की गई और मेरे पति को फंसाकर पैसे डकारने का कार्य किया गया, जिसके चलते मेरे पति ने मानसिक प्रताड़ित होकर आत्महत्या की।
फिर्यादि की शिकायत पर गोरेगांव पुलिस ने भादवी की धारा 306, 34 के तहत मामला दर्ज कर आगे की जांच पुलिस निरीक्षक वंजारी कर रहे है।

Related posts