पूर्व विधायक गोपालदास अग्रवाल के प्रयत्न सफल:  गोंदिया शहर में 193 करोड़ रु. लागत से मरारटोली एवं हड्डीटोली रेलवे क्रॉसिंग समेत 3 नए भव्य रेलवे उड़ानपुलों के निर्माण कार्य का मार्ग प्रशस्त

1,030 Views

पूर्व विधायक गोपालदास अग्रवाल के प्रयत्न सफल:

गोंदिया शहर में 193 करोड़ रु. लागत से मरारटोली एवं हड्डीटोली रेलवे क्रॉसिंग समेत 3 नए भव्य रेलवे उड़ानपुलों के निर्माण कार्य का मार्ग प्रशस्त

प्रतिनिधि। 15 दिसम्बर

गोंदिया : पूर्व विधायक गोपालदास अग्रवाल के प्रयत्नों से  गत वर्ष 20 जुलाई 2019 में विधानसभा चुनाव के पूर्व ही, केन्द्रीय सडक परिवहन मंत्री नितीन गडकरी ने गोंदिया विधानसभा क्षेत्र में ६० करोड़ रु. लागत से मरारटोली रेल्वे क्रासिंग के ऊपर तथा ५० करोड रु. लागत से हड़डीटोली रेल्वे क्रासिंग के ऊपर तथा ८३ करोड़ रु. लागत से शहर के पुराने रेल्वे उड्डानपुल को ध्वस्त कर, नवीन भव्य पुलों के निर्माण कार्य को मंजूरी दी थी। जिसके उपरांत विधानसभा चुनाव की आचार सांहिता तथा कोरोना लॉकडाउन के कारण निर्माण कार्य को गति नही मिल सकी। कोरोना महामारी में कमी और शासकीय कामकाज शुरू होने पर गत माह पूर्व विधायक गोपालदास अग्रवाल ने राज्य के सार्वजनिक बांधकाम मंत्री अशोक चव्हाण से भेंटकर उन्हें इन पुलों के निर्माण कार्य को गति देने हेतु अनुरोध किया था तथा चव्हाण द्वारा बांधकाम विभाग के मुख्य अभियंता को दिए फोन पर निर्देशानुसार बांधकाम विभाग ने इन पुलों के निर्माण हेतु कंसलटंट नियुक्त करने की निविदा आमंत्रित कर दी है। जिसके बाद अब जल्द ही पुलों के निर्माण कार्यो को भी गति मिलेगी, ऐसी संभावना है।

    इस अवसर पर पूर्व विधायक गोपालदास अग्रवाल ने कहा कि गोंदिया शहर को स्मार्ट सीटी बनाने का उनका स्वप्न और संकल्प पूरा होकर रहेगा और इस हेतु प्रयास निरंतर जारी रहेगें। गोंदिया में हमारी मंजूर कराई भूमिगत गटार योजना का कार्य शुरु हो चुका है, जल्द ही पुलों का निर्माण कार्य शुरु हो रहा है और जल्द ही शासकीय मेडीकल कॉलेज के निर्माण कार्य को भी अधिकाधिक गति देने के हमारे प्रयत्न जारी है। गोंदिया में शासकीय इंजिनियरिंग कॉलेज की स्थापना करने को दिशा में भी प्रयत्न शुरु है और निश्चित रुप से इन सभी कार्यों को पूर्ण कराकर, गोंदिया को स्मार्ट सीटी बनाने के हमारे संकल्प को निश्चित रुप से साकार किया जायेगा।

   उन्होने आगे कहा कि डॉ.बाबासाहेब आंबेडकर चौक से निर्मल टॉकिज तक पुल का निर्माण उक्त मार्ग के राष्ट्रीय महामार्ग हो जाने के कारण शासन ने मंजूर किया है, लेकिन फुल्चूर नाका-जयस्तंभ चौक-मरारटोली मार्ग राष्ट्रीय महामार्ग का हिस्सा अब नही है, अंतः उक्त पुल के निर्माण की आवश्यकता नही लगती, वही पुल के निर्माण से डॉ.बाबासाहेब आंबेडकर स्मारक के सौंदर्यीकरण व नवनिर्माण में अडचन, मार्ग पर स्थित भव्य प्रशासकीय इमारत, भव्य न्यायालय आदी को भी असुविधा होगी। वहीं मार्ग पर पड़नेवाले मार्केट, छोटी ठेला दुकाने, बस स्टॉप तथा काली-पीली टैक्सी स्टॉप के व्यापार पर भी नकारात्मक असर होगा। अंतः उक्त पुल के निर्माण को संभवतः रद्द करने के प्रयत्न किए जायेगें।

    ज्ञात रहे कि गोंदिया शहर की मरारटोली रेल्वे क्रासिंग वर्तमान में व्यस्तम रेल्वे क्रांसिंग है। गोंदिया-बालाघाट मार्ग पर पड़नेवाली उक्त रेल्वे कासिंग से बढ़ी संख्या में मध्यप्रदेश से आनेवाले वाहनों के साथ-साथ गोंदिया ग्रामीण अंचल से प्रतिदिन गोंदिया आने-जाने वालों के भी हजारों वाहनों के आवाजाही रहती है, तथा दिन में अनेकों बार उक्त रेल्वे लाईन पर फाटक बंद होने से यात्रियों को असुविधा होती है। भविष्य में गोंदिया-जबलपुर रेल्बे मार्ग के शुरू होने के बाद यह समस्या और भ्री वीकराल रुप लेती। अंततः गोदिया शहर के नविन रेल्वे उड़ान पुल तथा नवनिर्मित बायपास मार्ग पर रेल्वे उड़ानपुल के निर्माण के बाद, तत्कालीन विधायक गोपालदास अग्रवाल ने मरारटोली रेल्वे क्रासिंग तधा सिव्हील लाईन मरारटोली को जोड़नेवाले बायपास मार्ग पर हड्डीटोलनी स्थित रेल्वे क्रासिंग पर भव्य उड़ानपुल निर्माण हेतु प्रयत्न किए। तत्कालीन विधायक गोपालदास अग्रवाल ने दोनों पुलों के निर्माण हेतु बांधकाम विभाग से आवश्यक प्रस्ताव तैयार कराकर राज्य शासन के मार्फ़त केन्द्र शासन तक प्रस्ताव मंजूरी हेतु प्रेषित कराया था, वहीं केन्द्रिय भुतल परिवहन मंत्री नितीन गडकरी से भेंट कर उन्हें उक्त दोनों पुलों के निर्माण को मंजुरी देने हेतु अनुरोध क्रिया था।

    इन्हीं प्रयत्नों के फलस्वरुप केन्द सरकार ने केंद्रीय सड़क निर्माण निधी अंतर्गत मरारटोली रेल्वे क्रासिंग पर ६० करोड़ रु. तथा हड्डीटोली रेल्वे क्रासिंग पर ५० करोड़ रु. एवम् ८३ करोड़ रु. लागत से शहर के पुराने रेल्वे उड्डानपुल को ध्वस्त कर, नबीन भव्य पुलों के निर्माण कार्य को मंजूरी दी थी। तीनों पुलों के निर्माण कार्यों को गति मिलने पर तत्कालीन विधायक गोपालदास अग्रवाल ने शहर के नागरीकों को बधाई देते हुए जल्द ही निर्माण कार्य शुरु होने की संभावना व्यक्त की है।

    उल्लेखनीय है की गतवर्ष रेल्वे लाईन से विभाजित गोंदिया शहर के दोनों हिस्सों को जोड़नेवाले पुराने रेल्वे उड़ानपुल के स्थान पर नए उड़ानपुल के निर्माण हेतु तत्कालीन विधायक गोपालदास अग्रवाल के प्रयत्नों से वर्ष २०१९-२० के बजट में ८३ करोड़ रु. लागत के नवीन उड़ानपुल निर्माण कार्य को मंजुरी मिली तथा तत्काल सर्वेक्षण, अंदाजपत्रक एवम् डिजाईन तैयार करने तथा निविदा प्रक्रिया प्रारंभ करने के लिए सरकार ने २ करोड़ ३० लाख रु. की निधी का आवंटन सार्वजनिक बांधकाम विभाग को कर दिया है। जिससे अब गोंदिया शहर में एक साथ तीन नए उड़ानपुलों के निर्माण कार्य का मार्ग प्रशस्त हुआ, यह विशेष उल्लेखनीय है।

Related posts