पुल निर्माण में बाधा लाने वाली, वो “अदृश्य शक्ति कौन..??

925 Views

8 दिन में काम शुरू करो नहीं तो तंबू तानकर करूँगा तीव्र आंदोलन- विधायक विनोद अग्रवाल

प्रतिनिधि। 03 मई
गोंदिया। नए पुल के निर्माण के नाम पर पुराने रेलवे ओवर ब्रिज को टूटे सालो बीत गए, पर अबतक इस ब्रिज का काम शुरू नही होने पर अब नागरिक गुस्साये हुए है। कुछ सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर तो रेलवे ब्रिज के निर्माण को लेकर आंदोलन की भूमिका भी अख्तियार हो चुकी है। इस बीच गोंदिया के विधायक विनोद अग्रवाल भी कूद पड़े है।
उड़ान पुल के नीचे पुराने पुलिया की समतल जगह..
गौरतलब है कि कुछ माह पूर्व पुल निर्माण करने वाली ठेका कंपनी, संबधित विभाग की अगुवानी में रेलवे ओवर ब्रिज के निर्माण कार्य की शुरुआत के लिए गाजे बाजे से कार्य का भूमिपूजन हुआ था। उस दौरान क्षेत्र के विधायक विनोद अग्रवाल, सांसद प्रफुल पटेल के प्रतिनिधि के रूप में पूर्व विधायक राजेन्द्र जैन भी उपस्थित थे। उस समय ठेका कंपनी ने मशीनें भी लाकर ये आश्वस्त किया था कि कार्य प्रारंभ हो रहा है।पर भूमिपूजन के बाद कार्य को ठंडे बस्ते पर डाल दिया गया।
पुराना रेलवे ओवर ब्रिज..
अब जब फिर मामला उठ रहा है तो, विधायक विनोद फिर ठेका कंपनी पर और सम्बंधित अधिकारियों पर चढ़ते दिखाई दे रहे है। विधायक विनोद अग्रवाल ने आज रेलवे पुल के निर्माण में देरी को लेकर अधिकारियों एवं ठेका कंपनी पर चढ़ाई की और जमकर फटकार लगाई।
विधायक ने कहा, रेलवे ओवर ब्रिज के निर्माण का मुद्दा रोज़ के जीवन से जुड़ा मुद्दा है. पुलिया के पुनः निर्माण हेतु अनेक अड़चनों को दूर कर टेंडर प्रक्रिया पूर्ण की गई, वर्क ऑर्डर किया गया जिसे छह महीने पूर्ण हो चुके है. लेकिन अभी तक निर्माण कार्य शुरू नहीं किया गया है. उन्होंने कहा उन्हें संदेह है कि जानबूझकर पुल निर्माण का कार्य किसी अदृश्य शक्ति के इशारे पर रोका जा रहा है। अगर ऐसा है तो मैं इसके लिए तैयार हूँ।
विधायक विनोद अग्रवाल ने ठेका कंपनी और सम्बंधित विभाग को 8 दिन की मोहलत दी है। अगर 8 दिनों के भीतर कार्य शुरू नही हुआ तो वे तंबू तानकर तीव्र आंदोलन करेंगे। अगर उसके बाद भी कुछ निर्णय नहीं होता है तो आर पार की लढ़ाई लड़ी जायेंगी.

Related posts