गोंदिया: डबल किराया दर के साथ शुरू हुई डेमू और मेमू पैसेंजर ट्रेन..यात्री हुए हलाकान

1,111 Views

 

केंद्र सरकार द्वारा कोरोना के नाम पर यात्रियों से मचाई जा रही लूट तुरन्त बंद हो- एड़. योगेश अग्रवाल बापू

प्रतिनिधि। 28 सितंबर
गोंदिया। कोविड संकट के चलते पिछले डेढ़ वर्षो से बंद रही लोकल, पैसेंजर ट्रेन को आज से तीन तीन रूट पर प्रारंभ किया गया है। इन यात्री पैसेंजर ट्रेनों के शुरू होने को लेकर जहां खुशी बनी हुई है, वही लोकल क्षेत्र के रेलयात्रियों में टिकट किराए की बढ़ोत्तरी से नाराजी भी है ।

दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के गोंदिया रेल्वे स्टेशन से आज दो यात्री पैसेंजर ट्रेन को स्पेशल डेमू, मेमू के नाम से शुरू किया गया है। इन ट्रेनों में 08802 गोंदिया-बल्लारशाह मेमू ट्रैन को सुबह 7.40 को इंजिन पायलट ने हरी झंडी दिखाकर परिचालन शुरू किया, वही गोंदिया- बालाघाट-कटंगी डेमू ट्रैन 07703 को सुबह 9 बजे हरी झंडी दिखाकर परिचालन शुरू किया गया।

आज पहले दिन यात्रियों में कमी देखी गई। कुछ यात्री नए किराए का आभास न होने पर नाराज देखे गए। इस किराया बढोत्तरी को लेकर पूर्व रेल उपभोक्ता सलाहकार समिति ( डीआरयूसीसी) सदस्य एड. योगेश अग्रवाल बापू ने बड़ी नाराजी व्यक्त की है।

श्री अग्रवाल ने कहा, हमनें और हमारे पूर्वजों ने रेलवे ट्रेनों को कभी इतने लंबे समय तक बंद नही देखा। कोविड में ट्रेनों के बंद परिचालन ने पूरे भारतवर्ष को रोके रखा। अब हालात पिछले कुछ माह से सामान्य है, सुपर, मेल, एक्सप्रेस, राजधानी, साप्ताहिक आदि ट्रेनें सरपट दौड़ रही है। ऐसे में जब सबकुछ सामान्य हो रहा है तो, रेलवे ट्रेनों के परिचालन को लेकर डबल किराया क्यों वसूल रही है..?? कोविड के नाम पर ज्यादती क्यों कि जा रही है।

उन्होंने कहा एक्सप्रेस ट्रेनों में जनरल डिब्बे में बैठने का आरक्षण टिकट अनिवार्य किया गया है, वही यात्रियों से अधिक शुल्क वसूला जा रहा है। गोंदिया से महाराष्ट्र एक्सप्रेस से नागपुर जाने पर जनरल डिब्बे की आरक्षित टिकट 75 रुपये है, वही अनारक्षित पैसेंजर ट्रेन का किराया 60 रुपये है। जबकि पूर्व में इन्ही ट्रेनों में 60 रुपये व 30 रुपये में यात्रा होती थी।

उन्होंने कहा, गोंदिया से बालाघाट का लोकल ट्रेन किराया 10 रुपये था, जिसे बढाकर 30 रुपये कर दिया गया। कटंगी का 25 रुपये था, जिसे 50 कर दिया गया। गोंदिया से वडसा का किराया 25 रुपये था, जिसे 50 कर दिया गया। सौंदड़ का 15 से 30, अर्जुनी का 20 से 45 कर दिया गया।

पूर्व डीआरयूसीसी सदस्य एड. योगेश अग्रवाल ने कहा, ये सीधे-सीधे रेल मंत्रालय द्वारा रेलयात्रियों की लूट है। कोविड स्पेशल ट्रेन के नाम पर यात्रियों की जेबों को अधिक शुल्क वसूल कर काटा जा रहा है।

उन्होंने रेल विभाग से मांग की है कि, सभी लोकल यात्री पैसेंजर ट्रेनों पर जो पूर्व में किराया दर था, उसे पुनः लागू कर इस बढ़ोत्तरी से यात्रियों को निजात दिलाये। विशेष है कि लोकल ट्रेनें आसपास के शहरों से यात्रा करने वालो की जीवनदायिनी है। मध्यम, छोटे-मोटे धंधे वाले ग्रामीण क्षेत्रो से शहरों में रोजी-रोटी कमाने आते है। ऐसे में उन्हें डबल किराया महंगा साबित हो रहा है। इसलिए कोविड के नाम पर रेल मंत्रालय द्वारा लूट बंद होनी चाहिए ऐसी माँग एड़ अग्रवाल ने की है।

Related posts