जीएमसी गोंदिया में डायलेसिस की चार शिफ्ट चलाने एड. योगेश अग्रवाल ने डीन को सौंपा पत्र..डीन ने लिया त्वरित संज्ञान

289 Views

 

प्रतिनिधि। 26 अगस्त
गोंदिया। किडनी (गुर्दे) की बीमारी, मधुमेह, उच्च रक्तचाप, खून में जमा कचरा,विषाक्त पदार्थ और पानी की अधिक मात्रा को निकालने हेतु मरीजों के रक्त शोधन हेतु अपनायी जाने वाली डायलिसिस प्रक्रिया एक महत्वपूर्ण विधि है। इस यूनिट को वर्तमान में शासकीय वैद्यकीय महाविद्यालय व रुग्णालय में सुबह 8 बजे से रात्रि 8 बजे तक तीन शिफ्टों में संचालित किया जा रहा। परंतु रात्रि 8 बजे से सुबह 8 बजे के दौरान डायलेसिस की एक भी शिफ्ट प्रारंभ न होने से मरीजों को तकलीफों का सामना करना पड़ रहा है।

इस मामले पर जिला कांग्रेस कमेटी के महासचिव एवं जिलाध्यक्ष सोशल मीडिया कांग्रेस एड. योगेश अग्रवाल ने हाल ही में जीएमसी गोंदिया के अधिष्ठाता डॉ. तिरपुड़े से भेंट कर शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल में डायलिसिस की प्रारंभ तीन यूनिट को बढ़ाकर चार शिफ्टों में करने की मांग की एव इस मांग का पत्र भी सौपा है।

एड. योगेश अग्रवाल ने कहा कि, किडनी(गुर्दे) के रोगियों के लिए महत्वपूर्ण डायलिसिस यूनिट की रात्रि शिफ्ट शुरू करना अत्यंत जरूरी है। ऐसे अनेक मामले होते है जब रोगियों को डायलिसिस की जरूरत पड़ती है। रात्रि में डायलिसिस स्टाफ जैसे टेक्नीशियन, विशेषज्ञ आदि मौजूद न होने पर मरीज को तकलीफों का सामना करना पड़ता है। इसलिए डायलिसिस की रात्रि शिफ्ट के साथ चार शिफ्ट प्रारंभ की जानी चाहिए।

एड. योगेश अग्रवाल के इस मामले पर त्वरित संज्ञान लेते हुए जीएमसी गोंदिया के अधिष्ठाता डॉ. तिरपुड़े ने केटीएस जिला सामान्य अस्पताल के जिला चिकित्सक को डायलिसिस की शिफ्ट बढाने व उसके लिए लगने वाले टेक्नीशियन, विशेषज्ञ की संख्या बढ़ाने हेतु पत्र जारी किया है। जल्द ही इस मामले पर रात्रि शिफ्ट शुरू होंगी इस हेतु मार्ग प्रशस्त होता दिखाई दे रहा है।
एड़ अग्रवाल के साथ निवेदन देते हुए डोमा माने, बारेलाल माने, ठानेंद्र तुरकर, तुषार लुटे एवं अन्य नागरिक उपस्तिथ थे ।

Related posts