“आप” के बढ़ते कदम, डॉ. राजेश वैद्य बनें गोंदिया तालुका के अध्यक्ष

368 Views

 

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की विचारधाराओं से पक्ष को करेंगे संगठीत..

प्रतिनिधि।
गोंदिया। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की पार्टी “आम आदमी पार्टी” अब महाराष्ट्र राज्य के अनेक जिलों में अपना विस्तार कर चुकी है। यहां भ्रष्टाचार विरोधी नीतियों, आम नागरिक के कल्याण एवं दिल्ली तर्ज पर विकास के कार्य हो इस हेतु गोंदिया जिले में “आप” के विदर्भ कोषाध्यक्ष पुरुषोत्तम मोदी पिछले अनेक वर्षों से प्रयासरत है। उनके ही संकल्प पर पक्ष का विस्तार निरन्तर जारी है।

हाल ही में आम आदमी पार्टी की विचारधारा से प्रभावित रहे गोंदिया के प्रसिद्ध जानेमाने डॉक्टर श्री राजेश वैद्य ने पक्ष का दामन थामा है। उन्हें विदर्भ कोषाध्यक्ष पुरुषोत्तम मोदी की अनुशंषा पर आप के जिला संयोजक उमेश दमाहे ने गोंदिया तहसील का अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी सौंपकर उनकी नियुक्ति की है।

इस जिम्मेदारी पर डॉ. राजेश वैद्य ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि, मैं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के कार्यो से एवं उनके धर्मनिरपेक्ष विचारों से प्रभावित रहा हूँ। उन्होंने जिन संकल्पों के साथ भ्रष्टाचार मुक्त भारत की संकल्पना के तहत कार्य शुरू किया वो आज दिल्ली में दिखाई दे रहा है। आम आदमी को जो मूलभूत सुविधाएं, जीवन हेतु आवश्यक संसाधन चाहिए वो सब मुख्यमंत्री रहते करके दिखाया है। आज दिल्ली जैसे राज्य में सर्वजन का विकास बोल रहा है। अगर यही नीति और एजेंडा महाराष्ट्र सहित हर राज्य में लागू होता है तो आम आदमी का विकास संभव है।

उन्होंने कहा, मुझे गोंदिया तालुका में पक्ष की बड़ी जिम्मेदारी सौंपी गई है। मेरा पहला प्रयास होगा कि ग्रामीण क्षेत्र में जाकर अरविंद केजरीवाल के कार्यो एवं उनकी विचारधारा से आम आदमी को प्रेरित कर संगठन को मजबूती प्रदान करना है। दिल्ली जैसे राज्य में आम आदमी बिजली-पानी का मुफ्त में लाभ उठा रहा है, वही मंहगे से महंगा इलाज मुफ्त पा रहा है। शिक्षण व्यवस्था, रोजगार और विकास के चलते आज केजरीवाल भारत में सबसे ऊपर है।

आज हम जीवन के लिए आवश्यक वस्तुओं की महगाई से लड़ रहे है। खाद्य पदार्थ, खाद्य तेल चरम सीमा पर है। पेट्रोल-डीजल के दाम सर्वोच्च दरों पर होने से सब महंगा हो रहा है। ऐसी स्थिति में हमें दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के विचारों पर आगे बढ़कर आम आदमी को विकसित करना जरूरी हो गया है।

Related posts