गोंदिया: कोविड टेस्ट प्रक्रिया की गलत रिपोर्ट देने पर एड. प्रतिभा चुटे ने दो लैब पर की कार्रवाई की मांग…

906 Views

 

गोंदिया क्लीनिकल लेबोरेटरी एवं मनीषा मिश्रा पैथोलॉजी लैब का मामला, कलेक्टर के पास पहुँची शिकायत… त्वरित जांच के मिले आदेश

प्रतिनिधि।
गोंदिया। एक कम लक्षण के मरीज की कोविड टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव्ह आने पर निजी लेब में जांच कराने गए शिकायतकर्ता को त्वरित भर्ती करने व गलत जांच रिपोर्ट प्रस्तुत करने को लेकर ये मामला जिलाधिकारी के समक्ष पहुँच गया है। इस गंभीर मामले पर जिलाधिकारी मीणा ने त्वरित जांच के आदेश जारी किए है।

जानकारी के अनुसार शिकायतकर्ता एड. प्रतिभा दामाजी चुटे (हत्तीमारे), कु. स्नेहल हत्तीमारे निवासी सांई माऊली कॉलोनी, सेलटैक्स कॉलोनी, गोंदिया विगत 12 नवम्बर को हल्की सर्दी के चलते कोविड जांच हेतु गणेश नगर के केंद्र में पहुँचे थे। 16 नवम्बर को शिकायतकर्ता की रिपोर्ट सामान्य आयी, जबकि उनकी बेटी की रिपोर्ट कम लक्षण के साथ पॉजिटिव्ह आयी।

रिपोर्ट पॉजिटिव्ह आने पर उन्होंने 16 नवम्बर को अन्य टेस्ट हेतु गोंदिया क्लीनिकल लेबोरेटरी में जांच करायी। जिसकी जांच रिपोर्ट रात 9 बजे आयी। रिपोर्ट में प्लेटलेट्स 58 हजार था। डी-डाइमर 5770 बताया गया। ये गंभीर और असामान्य था।

मानक अनुसार प्लेटलेट्स 1,56,000 होना चाहिए तथा डी-डाईमर 500 से कम। परंतु रिपोर्ट चिंताजनक होने से परिवार के लोग परेशानी में आ गए। इलाज के खर्च हेतु भागादौड़ी करने लगे। हालांकि मरीज एकदम सामान्य थी। उन्हें इस रिपोर्ट पर भरोसा नही था। वे सन्तुष्टि के लिए डॉ. उषा अग्रवाल और डॉ. विमलेश अग्रवाल से मिले। डॉ. ने रिपोर्ट के आधार पर दवा लिखकर दी, और भर्ती कराने की सलाह दी। उन्होंने पुनः टेस्ट कराने कहा। हमनें दोबारा टेस्ट कराने 17 नवंबर को डॉ. मनीषा मिश्रा के यहां गए। रिपोर्ट में प्लेटलेट्स 3 लाख 25 हजार और डी-डाइमर 253.82 बताया गया। जो कि सामान्य था।

सिर्फ 20-22 घण्टे में प्लेटलेट्स बढ़ जाना, डी डाइमेर कम हो जाना, सीधे-सीधे टेस्ट प्रक्रिया को गलत दर्शाता है। अगर पहली रिपोर्ट के आधार पर स्नेहल को भर्ती कराया गया होता तो आज हालात कुछ और होता। लाखो का खर्च और जानमाल का खतरा भी।

शिकायकर्ता एड. प्रतिभा चुटे ने कहा, लेबोरेटरी द्वारा गलत रिपोर्ट देकर ये मरीजो के साथ खिलवाड़ कर रहे है। गोंदिया क्लीनिकल लेबोरेटरी एवं मनीषा मिश्रा की लैब ने पहली गलत रिपोर्ट देकर धोखाधड़ी की है। उन्होंने जिलाधिकारी गोंदिया श्री मीणा को शिकायत पत्र देकर दोनों लेब पर सख्त कार्रवाई की मांग की है। शिकायतकर्ता ने निवेदन में ये भी लिखा कि अगर 3 दिन में कार्रवाई नही हुई, तो वे इस मामले को न्यायालय में एवं ग्राहक मंच में ले जाएगी।

इस मामले को गंभीरता से लेते हुए जिलाधिकारी दीपककुमार मीणा ने जिला शल्य चिकित्सक को निर्देश देकर जांच की रिपोर्ट देने की मांग की है।

Related posts