युवामंच के मिशन, “ग्रीन काटी” के लिए दौड़ पड़ा काटी, पौधे लगाकर जतन करने का संकल्प..

333 Views
प्रतिनिधि। 06 जुलाई
गोंदिया। कांक्रीट के बिछते जाल से आज पेड़ो की संख्या बड़े पैमाने में घट रही है। पेड़ पौधों की कमी से पर्यावरण का भारी नुकसान हो रहा है। इसका सीधा असर ग्लोबल वार्मिंग पर पड़ रहा है। पेड़-पौधों का महत्व हमारे जीवन में क्यों जरूर ये हर किसी को समझना होगा। जब तक हम और आप इसे नहीं समझेंगे तक पर्यावरण संरक्षण की दिशा में बढ़ाया हुआ कदम सार्थक नहीं होगा।
इसी दिशा में गोंदिया जिले के गोंदिया तहसील अन्तर्गत हरित क्रांति पर कार्य कर रही युवा मंच संस्था, ने पर्यावरण बचाने, मानव जीवन बचाने का संकल्प लेकर ग्राम काटी नगर से मिशन ग्रीन काटी, क्लीन काटी की शुरुवात आज अनेक पौधे लगाकर की।
युवा मंच के संस्थापक अध्यक्ष लुकेश बंशपाल के इस मिशन पर युवाओं के साथ आज काटी दौड़ पड़ा और काटी को हरित बनाने, पेड़ों का जतन करने का संकल्प लिया गया।
इस पौधारोपण के दौरान युवा मंच के संस्थापक अध्यक्ष लुकेश बंशपाल ने कहा, एक व्यक्ति चौबीस घंटे में औसतन 550 लीटर आक्सीजन का उपयोग करता है। जबकि एक पेड़ इतने ही समय में 55 से 60 लीटर आक्सीजन उत्सर्जित करता है। इस तरह से प्रत्येक व्यक्ति को इस धरा पर जीवित रहने के लिए उसके हिस्से की आक्सीजन आपूर्ति के लिए दस पेड़ चाहिए इसलिए पर्यावरण संरक्षण को समझ कर हमे ज्यादा से ज्यादा पौधे लगाने संकल्पित होना चाहिये।
ग्राम काटी में मिशन ग्रीन काटी क्लीन काटी के तहत आज भव्य जागरूकता रैली निकाली गई एवं पी.एच.सी. से जी. प. हाई. स्कूल काटी के दोनो छोर पर वृक्षारोपण किया गया।
 
 बंशपाल ने कहा, यह मिशन निरंतर चलता रहेगा और ग्रीन काटी क्लीन काटी कल्पना को साकार रूप प्रदान करेगा, इसी संकल्प के साथ अगले शनिवार को मिशन ग्रीन काटी क्लीन काटी के तहर फिर वृक्षारोपण होगा।
विशेष सहयोग के लिए युवा मंच के साथ कबीर
विज्ञान आश्रम के आदरणीय धर्मदास साहेब, धनंजय भाऊ तुरकर कृ.उ.बा.स.सं., पोलिस पाटिल रंजीत बानेवार, तंटामुक्त अध्यक्ष धर्मेन्द्र परिमल, वरिष्ठ समाजसेवी राजु हलमारे, राजेश असाटी, रीतेश असाटी, सुकन्या संकल्प निकेतन स्कूल के प्रिंसीपल बाहेकरजी, कटरे सर, जि.प.हा.स्कूल काटी के प्रिंसीपल हरिणखेडे सर सभी शिक्षक वर्ग व विद्यार्थीगण व युवा मंच के सदस्य, विनोद बेले, राजेश किरणापुरे, राज खरे, मुकेश फाये, दिनेश किरणापुरे, राजेश खरे, दिलिप देशकर, अजय किरणापुरे, संतोष किरणापुरे, अनिल खरे, दिपक पाचे, रमेश फाए, अनिल बानेवार, अक्षय बनकर, लिकेश कामडी, जागेश कामडी, परदेश बनकर, प्रकाश चोपकर, कमलेश बानेवार, अजय बनकर,अजय पवनकर इत्यादि ने सहयोग प्रदान किया।

Related posts