घोड़ी-बग्गी, डीजे, कैटरर्स, डेकोरेशन वाले छोटे कारोबारियों की आवाज दबाना बंद करे पुलिस प्रशासन- विधायक विनोद अग्रवाल

419 Views

 

जिले के 16 हजार कारोबारियों पर आर्थिक संकट, गोंदिया जिला विवाह संघर्ष समिती के धरना आंदोलन में शामिल हुए विधायक विनोद अग्रवाल

प्रतिनिधि / गोंदिया
कोरोना वायरस के चलते संपूर्ण देश में लॉकडाउन किया गया जिसे कोरोना का फैलाव तो रुक गया लेकिन साथ ही में अनेक व्यवसायीको के व्यवसाय भी रुक गए जिससे उनके दो समय की रोजी रोटी का भी सवाल खड़ा हुआ है गोंदिया जिले में गोंदिया जिला विवाह संघर्ष समिति के माध्यम से सर्कस मैदान गोंदिया पर धरना आंदोलन किया जा रहा था। इस आंदोलन में शामिल लोको के खिलाफ प्रशासकीय कार्रवाई करते हुए आंदोलन को दबाने की कोशिश पोलिस प्रशासन के माध्यम से की जा रही थी। इसकी जानकारी विधायक विनोद अग्रवाल को मिलते ही खुद प्रदर्शनकारियों के धरने में शामिल होकर उनके आंदोलन को बढ़ावा देकर उनकी मांगे पूरी करने के लिए शासन को मांग की है। शादी से जुड़े अनेक व्यावसायिक, डेकोरेशन व्यवसाय, कैटरर्स व्यवसाय, घोड़ी बग्घी, लॉन, मंडप, संगीत, बिछायत व्यवसाय , धुमाल, डीजे, एकत्र आकर इन सभी व्यवसायों को सुरु करने की मांग को लेकर धरना प्रदर्शन कर रहे थे। प्रदर्शनकारो से विधायक विनोद अग्रवाल इन्हें आवेदन सोपते हुए अपनी मांगों को पूर्ण करने हेतु शासनसे पाठपुरावा करने की मांग की है। गोंदिया जिले में कुल 16000 व्यापरियोका व्यवसाय इस वजह से बंद पड़ा है । जिसका सीधा असर 80000 लोगो पर पड़ा है। शादी ब्याह जैसे कार्यक्रमों में घोड़ी बग्गी डीजे लाइट बैंड आदि को परमिशन मिलने की मांग रखी गई। साथ ही में लॉकडाउन के समय पर बैंक के किस अदा न करने की वजह से लगे ब्याज को बैंक माफ करें। व्यवसायिक कर्ज की किश्त लॉकडाउन के दौरान माफ् करने की मांग रखी गई।
इन सभी मांगों को पूर्ण करने के लिए मैं शासन को अनुरोध करते हुए मांगे पूरी करने पूर्ण सहयोग करूंगा ऐसे विधायक विनोद अग्रवाल इन्होंने प्रदर्शनकारियों को आश्वासित किया। साथ ही मे पोलिस प्रशासन को अनुरोध करते हुए कहा की अपनी रोजीरोटी के लिए शांत स्वरूप किए गए इस धरना प्रदर्शन को किसी भी राजनैतिक सड़यंत्र के तहत दबाने की कोशिश न की जाए ऐसे भी विधायक विनोद अग्रवाल इनोने कहा।
इस समय गोंदिया जिला विवाह संघर्ष समिति के संयोजक दुर्गा ठाकरे, अध्यक्ष अमित गुप्ता, उपाध्यक्ष सतीश चौरसिया, गोपाल दावड़ा, मोनू जैन, गौरव चौरसिया, तिलक दीप, सचिव गिरीश चौरसिया, वसंत मुरकुटे, एकनाथ जोशी, सुनील जायसवाल, मनीष सोनी, सचिव रवि कोटांगले, अरविंद गणवीर, प्रियेश चौरसिया, पूरन बिसेन, रणजीत चौहान, कोषाध्यक्ष शरद हरडे, विश्वनाथ पटले आदि कार्यकारी मंडल से साथ बड़े पैमाने मे व्यावसायिक उपस्थित थे।

Related posts