स्व.तुरकरजी का जीवन सदैव शैक्षणिक, सामाजिक व धार्मिक कार्यो में अग्रसर रहा- पूर्व विधायक राजेंद्र जैन

565 Views

 

प्रतिनिधि।

गोंदिया। स्व. रुपचंद बहुउद्देशीय शिक्षण संस्था एवं विठ्ठल रुखमिणी ट्रस्ट कोरनी के संस्थापक व शिक्षा के क्षेत्र में प्रचार प्रसार एवं सर्वांगिण विकास के लिये जीवनभर प्रयत्नशील रहे स्व. शिवशंकरजी रुपचंदजी तुरकर इनकी 67 वी जयंती समारोह का आयोजन राष्ट्रीय माध्यमिक व उच्च माध्यमिक विद्यालय सतोना में किया गया। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व विधायक श्री राजेंद्र जैन की प्रमुखता से उपस्थिति रही।

पूर्व विधायक श्री राजेंद्र जैन ने इस कार्यक्रम के दौरान उन्हें विनम्र अभिवादन कर अपने सम्बोधन में कहा की, गोंदिया तालुका के छोटेसे कोरनी गांव में स्व. शिवशंकरजी तुरकर इनका जन्म हुआ। बचपन में पिता का साया खोने के बाद कठिन परिस्थिति में उन्होंने अपनी शिक्षा पूरी की, शिक्षा में जो कठिनाईओ का सामना करना पड़ा, उन कठिनाईओ का सामना समाज के अन्य किसी बच्चो को न करना पड़े इसलिए सतोना में स्कूल की नीव रखी।

इतना ही नहीं, शिवशंकर जी ने शिक्षा के साथ साथ धार्मिक क्षेत्र में भी सामाजिक कार्य किये। धार्मिक कार्यो का लगाव होने की वजह से उन्होंने कोरनी घाट में विठ्ठल रुखमिणी ट्रस्ट का निर्माण किया। स्व.तुरकरजी आजीवन शैक्षणिक, सामाजिक व् धार्मिक कार्यो में व्यस्त रहे, उनके बताये हुए मार्ग पर उनके सुपुत्र केतन तुरकर चल रहे है।

कार्यक्रम में सर्वश्री राजेंद्र जैन, मुनेश रहांगडाले, पुजा सेठ, अमर वराडे, सुरेश हर्षे, जगदीश बावनथडे, सुधा रहांगडाले, गणेश बरडे, कल्लू यादव, प्रेमकुमार रहांगडाले, निरज उपवंशी, शिवलाल जमरे, राजेश जमरे, सरला चिखलोंडे, केतन तुरकर, नेहा तुरकर, हनस ठाकरे, रंजीत बिसेन, लक्ष्मीचंद पाचे, सतीश मरठे, गुलाब नागदेवे, डी यू रहांगडाले, राजु एन.जैन, विनोद पटले, संदीप मेश्राम, अखिलेश सेठ, रवी पटले, प्रकाश पटले, डॉ खोब्रागडे, सोमराज तुरकर, नागो बनसोड, इंदलसिंह राठोड, टी.एस.तुरकर, शैलेश वासनिक, सुनील पटले, नागरतन बनसोड, राजु येडे, कान्हा बघेले, योगी येडे, दर्पण वानखेडे सहित मान्यवर, शिक्षक, शिक्षकेत्तर कर्मचारी व विद्यार्थी उपस्थित थे।

Related posts