गोंदिया: पेट्रोल 111, डीजल 100 के पार, क्या यही है केंद्र का विकास मॉडल- मुकेश शिवहरे

165 Views

 

प्रतिनिधि। 11 अक्तूबर
गोंदिया। 7 साल पहले जो ईंधन के दामों में बढ़ोत्तरी पर पिछली सरकारों पर तंज कसकर राजनीति करते थे, आज वही सत्ताधारी बेतहाशा ईंधन बढ़ोत्तरी कर जनता के साथ धोखाधड़ी कर रहे है। हमनें 67 सालों में जो दिन नहीं देखे, वो इस केंद्र की मोदी सरकार ने सिर्फ 7 साल में दिखाए है।

ये बयान गोंदिया जिले के शिवसेना सहसम्पर्क प्रमुख मुकेश शिवहरे ने आज 11 अक्तूबर को डीजल के दरों में हुई बढ़ोत्तरी पर टिकास्त्र कर दिया है। शिवसेना नेता मुकेश शिवहरे ने कहा, मोदी जी! क्या यही है आपके विकास का मॉडल। क्या ये दिन देखने जनता ने आप पर विश्वास कर बहुमतों से आपको देश के सर्वोच्च सदन में प्रधानमंत्री बनाकर बैठाया। अगर यही विकास की परिभाषा है तो हम इस विकास मॉडल को सदैव याद रखेंगे।

शिवसेना नेता श्री शिवहरे ने कहा, जनता ने कोविड संकट को बहोत बुरी तरह से झेला है। आर्थिंक तंगहाली झेली है वही अपनों को भी खोया है। जो मदद केंद्र सरकार ने आम नागरिक के लिए करनी चाहिये थी वो बिल्कुल नही की गई। उल्टा केंद्र सरकार ने रसोई गैस की किंमतो को बढ़ाकर आम आदमी की जेबें काट दी। इतना ही नहीं पेट्रोल के दामों में बेतहाशा बढ़ोत्तरी की। आज वर्तमान में पेट्रोल के दाम 111 रुपये 36 पैसे प्रति लीटर है वही डीजल का भाव भी 100 रुपये के पार कर दिया।

शिवसेना नेता ने कहा, आज डीजल के दाम बढ़ने से ट्रांसपोर्ट चार्ज बढ़ गया है, जिससे आवश्यक वस्तु के साथ ही हर वस्तु महंगाई की चरम सीमा पर है। खाद्य तेल जो कभी 100 रुपये के भीतर प्रति लीटर मिलता था, आज वही तेल 160 रुपये से अधिक दामों में बढ़ोत्तरी कर गरीब का पसीना निकाल रहा है।

महंगाई, पेट्रोल-डीजल आदि की बेतहाशा बढ़ोत्तरी को लेकर केंद्र सरकार मौन है। किसानों के मामलों पर ये सरकार मौन है। रोजगार को लेकर ये सरकार मौन है। अगर आम नागरिक के हितों को लेकर आप मौन व्रत पर हो तो, ऐसी सरकार पर धिक्कार है।

केंद्र सरकार के इस मौन व्रत को तोड़ने शिवसेना जनता के साथ खड़ी है। इस बेतहाशा बढ़ोत्तरी पर शिवसेना आक्रामक होकर जल्द ही जिले भर में तीव्र आंदोलन करेंगी ऐसी जानकारी भी शिवसेना नेता ने दी।

Related posts