गोंदिया: शासन से धोखाधड़ी पकड़ी गई, फर्जी दस्तावेजों पर ले रहा था महाविद्यालय की मंजूरी, नायब तहसीलदार ने दर्ज की FIR

742 Views
रिपोर्टर। 09 जून
गोंदिया। जिले में फर्जी, नकली दस्तावेजों को शासन के विभागों में प्रस्तुत कर सरकार को गुमराह करने के मामले आये दिन सामने आ रहे है। जिले में ये दूसरी घटना है जब किसी संस्था चालक द्वारा फर्जी व जाली दस्तावेज प्रस्तुत कर महाविद्यालय की मंजूरी लेने शासन को गुमराह करने का प्रयास किया गया। नया मामला तिरोडा थाने के वड़ेगाव का सामने आया है, जहां एक शिक्षण संस्था चालक पर नायब तहसीलदार द्वारा मामला दर्ज किया गया है।
तिरोडा पुलिस थाने में इस मामले के जांच अधिकारी पुलिस उपनिरीक्षक अशोक केन्द्रे से प्राप्त जानकारी के अनुसार ये मामला वर्ष 2016 का है। आरोपी भूपेंद्र मागासवर्गीय बहुउद्देश्यीय शिक्षण संस्था द्वारा संचालित एस. आर. प्रशासकीय महाविद्यालय वड़ेगाव तह. तिरोडा जिला गोंदिया के नाम से वड़ेगाव में गट क्र 91/01 का सात बारह का दुरुपयोग कर तथा फर्जी व नकली दस्तावेज तैयार कर उसका प्रस्ताव उच्च व तंत्रशिक्षण विभाग को प्रस्तुत किया गया था।
पुउपनि केन्द्रे ने बताया कि ऑनलाइन जब दस्तावेजो की जांच उच्च व तंत्र शिक्षण विभाग द्वारा की गई तो, प्रस्तुत 7/12 किसी और के नाम पर दिखाई दिया। तथा 7/12 जो एन ए बताया गया था, वो कृषक दिखाई दिया। शासन को गुमराह करने पर उच्च व तंत्र विभाग ने जांच हेतु जिलाधिकारी को पत्र प्रेषित किया था, जिसके बाद तिरोडा तहसीलदार को जिलाधिकारी द्वारा जांच के आदेश दिए गए थे।
फिर्यादि नायब तहसीलदार ने इस मामले में जांच कर पाया कि आरोपी संस्था चालक ने किसी और के नाम का 7/12 का फर्जी तरीक़े दुरुपयोग कर  नकली व जाली दस्तावेजों के सहारे प्रस्ताव बनाकर शाषन को प्रस्तुत कर शासन से धोखाधड़ी करने का प्रयास किया गया है।
   फिर्यादि नायब तहसीलदार तिरोडा अप्पासाहेब तुकाराम व्हनकडे उम्र 38 की शिकायत पर तिरोडा पुलिस ने भादवि की धारा 420, 465, 468, 471 के तहत मामला दर्ज कर आगे की जांच पुउपनि केन्द्रे कर रहे है।

Related posts