जायसवाल ने चांदपुर देवस्थान में दर्शन कर भरी राजनीतिक हुंकार..

488 Views

 

स्व. गजानन रंभाड़ व स्वर्गीय केशोराव हेडाऊ सहित हजारों किसानों का वैनगंगा सहकारी शक्कर कारखाना वापस किसानों को दिलाकर शुरू करवाने के लिए मुझे आशीर्वाद दे-एड. वीरेंद्र जायसवाल

तुमसर: भंडारा गोंदिया लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से निर्दलीय उम्मीदवार एवं ओबीसी हिंदू संगठना के केंद्रीय अध्यक्ष एडवोकेट वीरेंद्र जायसवाल ने अपने चुनाव प्रचार की शुरुआत चांदपुर देवस्थान में पूजा अर्चना के पश्चात उपस्थित किसानों को संबोधित कर की।

इस दौरान एड. विरेन्द्र जायसवाल ने किसानों से चर्चा में बताया कि नितिन गडकरी ने ओने-पौने दामों में वैनगंगा सहकारी शक्कर कारखाना को खरीद लिया था।

इस सहकारी शक्कर कारखाना को बनाने के लिए स्वर्गीय गजानन रंभाड़ व स्वर्गीय केशोराव हेडाउ ने हजारों किसानों के किसानों के साथ मिलकर करोड़ों के शेयर्स इकट्ठा करके वैनगंगा सहकारी शक्कर कारखाने की नींव रखी थी। लेकिन वह कारखाना खरीदने के बाद 450 कर्मचारियों को उनकी वेतन राशि पाने के लिए सुप्रीम कोर्ट तक लड़ाई लड़नी पड़ी।

एडवोकेट जायसवाल ने कहा कि वैनगंगा सहकारी शक्कर कारखाना की सारी संपत्ति जमीन व किसानों के करोड़ों के शेयर्स यदि तुमसर क्षेत्र के किसान वापस चाहते हैं और यह भी चाहते हैं कि कारखाना फिर से शुरू होकर क्षेत्र के हजारों किसानों, मजदूरों, युवाओं, महिलाओं को काम मिले वह क्षेत्र में फिर से विकास दिखाई देने लगे तो आगामी 19 अप्रैल को पूरी ताकत से मुझे आशीर्वाद प्रदान करें।

जायसवाल ने आगे कहा वैनगंगा सहकारी शक्कर कारखाना के 450 कर्मचारियों को उनका बकाया वेतन दिलवाने के लिए सुप्रीम कोर्ट तक की लड़ाई को मेरा पूरा सहयोग व मार्गदर्शन रहा था, जो पूरे 450 कर्मचारियों से आप पूछ सकते हैं।

वैनगंगा सहकारी शक्कर कारखाना कैसे फिर से तुमसर क्षेत्र के किसानों को वापस मिल सकता है इसका सारा रोड मैप हमारे पास है। आप सिर्फ राजनीतिक ताकत देकर क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने का आशीर्वाद प्रदान करें।

एडवोकेट वीरेंद्र जायसवाल 30 मार्च को सुबह 12 बजे ग्राम माडगी में तुकाराम बाबा आश्रम में पहुंचे उसके पश्चात तुमसर के दुर्गा मंदिर में पूजा अर्चना कर मोहगांव खदान आश्रम में पहुंचकर पूजा अर्चना की पश्चात गायमुख पहुंचकर भगवान शिव का अभिषेक व पूजा करने के बाद भंडारा जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचकर चुनाव चिन्ह वितरण सभा में सहभागी हुए। ऑटो रिक्शा चुनाव चिन्ह मिलने के पश्चात वे वापस गोंदिया की ओर रवाना हुए।

Related posts